उत्तरप्रदेश

मलिकाना हक देने तथा बस्ती से पीएसी को हटाने की मांग को लेकर 03 जनवरी 2021 से श्रमिक बस्ती मानस पार्क में शुरू होगा अनिश्चितकालीन धरना रिपोर्टर सुभाष चंद्र पटेल प्रयागराज नैनी

कलयुग की कलम समाचार पत्रिका

प्रयागराज नैनी श्रमिक बस्ती नैनी के निवासियों की एक सभा में आगामी 3 जनवरी 2021 से अनिश्चितकालीन धरना शुरू करने का निर्णय लिया गया। उत्तर प्रदेश की औद्योगिक श्रमिक बस्तियों में रहने वाले अध्यासियों को उनके आवासों का मालिकाना हक दिये जाने तथा राजकीय श्रम हितकारी केन्द्र एवं श्रमिक बस्ती नैनी, प्रयागराज से 42वीं वाहिनी पीएसी का अवैध कब्जा एवं पीएसी के जवानों द्वारा श्रमिक बस्ती के बीच नल लगाकर पानी बेचने के खिलाफ आज श्रमिक बस्ती नैनी राजकीय श्रम हितकारी केन्द्र के सामने जनसभा हुई। सभा में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि किसान आन्दोलन की तरह उत्तर प्रदेश में भी अब मजदूर आंदोलन शुरू होगा।

सभा को सम्बोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि श्रमिक बस्ती में लोगों के घरों के सामने पीएसी ट्यूबेल आरओ वाटर प्लांट का नल लगा दिये जाने से लोगों के घरों के सामने बेतहाशा भीड़ इकट्ठा हो रही है। जिससे पूरी बस्ती में कोरोना एवं अन्य संक्रामक बीमारियों के फैलने का खतरा हो गया है। पीएसी के अधिकारियों की इस गैर जिम्मेदाराना हरकत से बस्ती के कई बच्चे बीमार पड़ गये है। पानी भरने के लिये आने वाले लोग एवं कई असामाजिक तत्व लोगों के घरों के सामने आड़ी तिरछी गाड़ी खड़ी कर देते है। विरोध करने पर लड़ाई-झगड़ा मारपीट पर आमादा हो जाते है। खाकी वर्दी की आड़ में पीएसी के जवानों ने पूरी बस्ती में भारी उत्पात मचा रखा है और इनकी इस हरकत से गरीब मजदूरों का जीना दुश्वार हो गया है। समिति के अध्यक्ष शिव शंकर दीक्षित ने कहा कि पिछले 42 वर्षाें से उत्तर प्रदेश की औद्योगिक श्रमिक बस्तियों में रहने वाले लोगों को उनके आवासों का मालिकाना हक दिये जाने तथा पीएसी का अवैध कब्जा हटाने के लिए स्थानीय जनता द्वारा कई बार आंदोलन किया गया। प्रदेश सरकार के निर्देश पर पूरे प्रदेश की श्रमिक बस्तियों की समितियों का मंतव्य जानने के लिए श्रमायुक्त कार्यालय कानपुर में दो वर्ष पूर्व बैठक भी हुई। बैठक के बाद श्रम विभाग के अधिकारियों को सुसंगत प्रस्ताव शासन को भेजना था। लेकिन आज तक यह मामला अधर लटका हुआ है। प्रदेश सरकार तथा श्रम विभाग की लापरवाही से श्रमिक बस्ती के लोग संशय में जी रहे है। सभा को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि केन्द्र सरकार की राजाज्ञा के अनुसार अन्य राज्यों की तरह उत्तर प्रदेश में भी सन् 1978 में इस समस्या का निराकरण कर दिया जाता तो आज यह स्थिति उत्पन्न न होती। सभा में निर्णय लिया गया कि अब निर्णायक आंदोलन होगा और आर पार की लड़ाई होगी। इस आंदोलन के पहले चरण में आगामी 3 जनवरी 2021 से श्रमिक बस्ती स्थित नैनी मानस पार्क में स्थानीय निवासियों द्वारा अनिश्चितकालीन धरना शुरू किया जायेगा। सभा को समिति के अध्यक्ष शिव शंकर दीक्षित सचिव विनय मिश्र, सुभाष प्रधान, प्रदीप शर्मा, एसबी सिंह, अमर चन्द्र शर्मा, सुनील कुमार मौर्या, ओम प्रकाश सिंह, सत्येन्द्र यादव आदि लोगों ने संबोधित किया।

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close