मध्यप्रदेश

अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में बघेली की चार फिल्में चयनित

कलयुग की कलम समाचार पत्रिका रीवा

अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में बघेली की चार फिल्में चयनित

कलयुग की कलम

रीवा/खजुराहो,पिछले वर्षों की तरह ही इस वर्ष भी खजुराहो में अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल का कार्यक्रम चल रहा है। जहॉ पूरे भारतवर्ष के कलाप्रेमी व कलाकार अपनी किस्मत आजमाने के लिये एक वर्ष इंतजार के बाद इस कार्यक्रम मे शामिल होने पहुंचे हैं। विंध्य व बघेलखंड के चहेते बघेली कलाकार अविनाश तिवारी जो अपनी कलाकारी को लोकर लाखों दिलो में राज करते हैं, उनके लिए भी यह मौका खास है। क्योंकि इस कार्यक्रम के 6 वें सीजन में बघेली की चार फिल्में चयनित हुई हैं जो कि विंध्य के लिये गौरव का विषय है।

बघेली कलाकार तिवारी ने बताया कि खजुराहो अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल जो कि हर साल खजुराहो में मनाया जाता है इसमें देशभर की फिल्में आती है और इसबार 6 वें सीजन में बघेली की चार फिल्में चयनित हुई हैं जो मेरे लिए बहुत ही खुशी का पल है। फिल्म को फेस्टिवल के कार्यक्रम के दौरान चलाया गया दर्शकों ने काफी मनोरंजन किया,सामाजिक संदेश के साथ इस फिल्म को लोगों ने देखा और पसंद भी किया । बघेलखंड के दर्शकों के लिए भी यह खुशी के क्षण हैं कि अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में बघेली की फिल्में चयनित हुई और चारों फिल्मों को सम्मानित किया गया। पहली फिल्म शौचालय इसके प्रोड्यूसर,डायरेक्टर व एक्टर अविनाश तिवारी हैं, दूसरी फिल्म आवास योजना इसके मुख्य कलाकार अविनाश तिवारी सुभाष मिश्रा शालू शर्मा हैं, जिसकी स्टोरी अविनाश तिवारी ने लिखी। तीसरी सिंह रेप हुआ ही नहीं इसकी स्टोरी अविनाश तिवारी ने लिखी मुख्य कलाकार सुभाष मिश्रा, शालू शर्मा, अविनाश तिवारी रहें। इन सभी फिल्मों को सभी दर्शकों ने देखा सुना और समझा साथ ही सभी कलाकारों की तहे दिल से तारीफ की।

           आपका विचार

अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल खजुराहो में बघेली की चार फिल्में चयनित होना निश्चित तौर पर प्रमाणित करता है कि अन्य भाषाओं की तरह बघेली भाषा को भी राष्ट्रीय स्तर मान सम्मान मिल रहा है। इन फिल्मों में अभिनय करने वाले हम सभी कलाकार काफी उत्साहित हैं। इन फिल्मों को बेहतर रेटिंग मिली। यह मेरे ईश्वर रूपी दर्शकों का प्यार और आशीर्वाद है इसके लिए सभी दर्शकों का मैं आजीवन कर्जदार रहूंगा।

‘अविनाश तिवारी, बघेली कलाकार’

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close