उत्तरप्रदेश

शांतिपूर्ण अन्ना आंदोलन ने देश की दिशा, दशा व राजनीति बदली।

-यातायात बाधक आंदोलन बने जनता व सेना के कार्य मे बाधक।

प्रयागराज वरिष्ठ समाजसेवी अधिवक्ता आर के पाण्डेय ने पुराने जमाने के कोप भवन के तर्ज पर अब सरकार से कोप पार्क की मांग की है।

जानकारी के अनुसार हाई कोर्ट इलाहाबाद के अधिवक्ता आर के पाण्डेय ने यूपी सीएम व पीएम को ट्वीट करके आंदोलनकारियों हेतु कोप भवन रूपी कोप पार्क की मांग की है। उन्होंने कहा कि पुराने जमाने में राजाओं द्वारा एक कोप भवन भी बनवाया जाता था जहां नाराज रानियां अपने मांग हेतु बैठ जाती थीं परन्तु अब वह व्यवस्था न होने से सत्ताविहीन कुछ लोग आंदोलन व प्रदर्शन के नाम पर सड़कें व रेल मार्ग बाधित करके आम जनमानस का जीवन दूभर करते हैं व सेना का रसद तक रोक देते हैं। आर के पाण्डेय ने याद दिलाया कि इसी आजाद भारत में शांतिपूर्ण अन्नाआंदोलन से सरकार तक हिल गई थी व संसद में चर्चा हुई जिसके बाद देश की न सिर्फ दिशा व दशा बदली वरन स्थापित राजनैतिक व्यवस्था के स्थान पर एक नए राजनीति का अभ्युदय हुआ परन्तु कुछ ऐसे नकारात्मक व हताश, निराश, मुद्दाविहीन लोग आए दिन शाहीन बाग-जाट-किसान-आदि के नाम पर हत्प्रभकारी अनावश्यक प्रदर्शन व आंदोलन करते हैं जिसमें वे रेल व सड़क यातायात बाधित करके न सिर्फ आम जनमानस को असहनीय मृत्यदायक कष्ट देते हैं वरन सेना की रशद तक रोक देते हैं व शहर तक घेर लेते हैं। आर के पाण्डेय के अनुसार लोकतांत्रिक व्यवस्था में शांतिपूर्ण प्रदर्शन, आंदोलन व विरोध का अधिकार उचित है परंतु समूचे जनमानस को कष्ट पहुंचाना, सेना का रसद रोक देना, यातायात बाधित करना, संवैधानिक पदों पर बैठे लोगों के प्रति अभद्र भाषा में नारे लगाना व देश विरोधी गतिविधि करना किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नही होना चाहिए। उनके अनुसार विधायिका, कार्यपालिका का न्यायपालिका का सम्मान होना चाहिए। आर के पाण्डेय एडवोकेट ने आज यूपी सीएम व पीएम को ट्वीट करके मांग किया है कि सरकार ऐसे जनविरोधी आंदोलनकारी व प्रदर्शनकारी से सख्ती से निपटते हुए आम जनमानस के सुविधा व देश के महान मतदाताओं का ध्यान रखे तथा सड़क व रेल रोकने एवं सार्वजनिक संपत्ति का नुकसान करने वालों पर कठोरतम कार्यवाही करते हुए ऐसे कोप भवन रूपी कोप पार्क का निर्माण करे जहां प्रदर्शनकारी व आंदोलनकारी अपने जरूरत के अनुसार धरना-प्रदर्शन करते रहें।

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close