प्रयागराज

मण्डलीय समीक्षा बैठक सम्पन्न @ रिपोर्टर सुभाष चंद्र पटेल प्रयागराज नैनी

कलयुग की कलम

राजस्व वसूली में वृद्धि लाने के दिए निर्देश

योजनाओं को पारदर्शी ढंग से क्रियान्वित करते हुए पात्रों को लाभान्वित कराये

आयुष्मान योजना के अन्तर्गत गोल्डेन कार्ड बनाये जाने के कार्य में लाये तेजी

कलयुग की कलम

प्रयागराज मण्डलायुक्त श्री आर0 रमेश कुमार की अध्यक्षता में बुधवार को आयुक्त कार्यालय के गांधी सभागार में मण्डलीय समीक्षा बैठक आयोजित की गयी। बैठक में राजस्व विभाग, लघु सिंचाई, ऊर्जा, लोक निर्माण, कृषि, सहकारिता, पशुधन, चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, पंचायतीराज, नगर विकास, ग्राम्य विकास, नमामि गंगे, खाद्य्य एवं रसद, मत्स्य, उद्यान, समाज कल्याण, अल्पसंख्यक कल्याण, बाल विकास पुष्टाहार, दुग्ध विकास, बेसिक शिक्षा, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास, श्रम, खाद्य्य सुरक्षा एवं औषधी प्रशासन सहित अन्य विभागों की संचालित योजनाओं की बिंदुवार समीक्षा करते हुए मण्डलायुक्त ने सभी विभागों के सम्बंधित अधिकारियों को उपलब्ध धन के सापेक्ष निर्माण कार्यों को गुणवत्ता एवं समयबद्धता के साथ पूर्ण करने एवं संचालित योजनाओं को पारदर्शी ढंग से क्रियान्वित करते हुए पात्रों को लाभान्वित कराये जाने का निर्देश दिया है। मण्डलायुक्त ने सभी विभागों के अधिकारियों को हिदायत देते हुए कहा कि कार्यों में लापरवाही या उदासीनता कदापि न बरती जाये। उदासीनता या लापरवाही पाये जाने पर सम्बंधित अधिकारी के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जायेगी।

बैठक में राजस्व विभाग के कर-करेत्तर राजस्व संग्रह की समीक्षा करते हुए मण्डलायुक्त ने स्टाम्प एवं रजिस्टेªशन, आबकारी, विद्युत, खनन, परिवहन के द्वारा अर्जित राजस्व वसूली की जानकारी लेते हुए परिवहन विभाग द्वारा जनपद प्रतापगढ़ में राजस्व संग्रह में कम वसूली पर नाराजगी जताते हुए लक्ष्य के सापेक्ष शत-प्रतिशत वसूली करने के निर्देश दिये। खनन विभाग की राजस्व समीक्षा में मण्डलायुक्त ने निर्देश दिये कि खनन से सम्बंधित शेष पट्टों की नीलामी की प्रक्रिया को जल्द पूरा करें, जिससे राजस्व में वृद्धि हो। इसी प्रकार विद्युत विभाग के द्वारा बिल की वसूली के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में कैम्प लगाये जाये व जन सुविधा केन्द्रों पर बिल जमा करने के लिए लोगो को प्रचार-प्रसार के माध्यम से प्रेरित करें।

विद्युत विभाग की समीक्षा में विद्युत विभाग के अभियंता के द्वारा बताया गया कि सरकारी कार्यालयों में बेसिक शिक्षा विभाग एवं ग्राम पंचायत विभाग पर विद्युत बकायें की अधिक धनराशि लम्बित है। इसके अलावा अन्य विभागों पर भी विद्युुत देय बकाया है। मण्डलायुक्त ने मण्डल के सभी जिला विकास अधिकारियों एवं विद्युत विभाग के अधिकारी व सम्बंधित विभागों के अधिकारियों के साथ बकाये धनराशि के सम्बंध में बैठक कर मामले का जल्द से जल्द निस्तारण कराने के निर्देश दिये। नई सड़कों के निर्माण/चैड़ीकरण/ सुदृढ़ीकरण के कार्य में शिथिलता न बरती जाये। अवमुक्त धनराशि के सापेक्ष 100 प्रतिशत कार्य पूर्ण किया जाये। साथ ही फतेहपुर में सड़क निर्माण के कार्य धीमी गति से होने पर नाराजगी जताते हुए आवश्यक निर्देश दिये। सेतु निर्माण के कार्यों की समीक्षा करते हुए जमीन अधिग्रहण से सम्बंधित समस्या बताये जाने पर मण्डलायुक्त ने किसानों से बातचीत कर सहमति से इस सम्बंध में आवश्यक कार्रवाई करते हुए जमीन अधिग्रहण की कार्यवाही सुनिश्चित कराये जाने के लिए निर्देशित किया है। साथ ही कौशाम्बी एवं प्रतापगढ़ में बन रहे सेतु निर्माण की प्रगति धीमे पाये जाने पर कार्य में तेजी लाने के लिए निर्देशित किया है। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की समीक्षा करते मण्डलायुक्त ने आधार फीडिंग या अन्य कारणों से जो किसान योजना का लाभ नहीं पा रहे है, ऐसे पात्र किसानों को भी लाभान्वित कराये जाने का निर्देश दिया है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की समीक्षा में मण्डलायुक्त ने मण्डल के उप निदेशक कृषि को जागरूकता अभियान चलाकर अधिक से अधिक किसानों को फसल बीमा हेतु प्रेरित किए जाने के लिए कहा है। साथ ही जिने किसानों को बीमा कम्पनी द्वारा अपात्र घोषित किया गया है, वहां पर स्वंय जाकर मामले की जांच करें। गोवंशीय एवं महिषवंशीय पशुओं की इयर टैगिंग की प्रगति अच्छी न पाये जाने पर सभी मुख्य पशुचिकित्साधिकारियों को कार्य में तेजी लाते हुए इयर टैगिंग के कार्य को लक्ष्य के सापेक्ष शत-प्रतिशत सुनिश्चित कराये जाने का निर्देश दिया है।

चिकित्सकों की उपलब्धता के विषय में जानकारी लेते हुए मण्डलायुक्त ने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रो और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों का लगातार निरीक्षण करते रहने के निर्देश दिये। निरीक्षण के दौरान बिना किसी सूचना के अनुपस्थित पाये जाने वाले लापरवाह चिकित्सकों के विरूद्ध कठोर कार्रवाई सुनिश्चित करते हुए शासन को रिपोर्ट प्रस्तुत करें। आयुष्मान भारत योजना के अन्तर्गत गोल्डेन कार्ड बनाये जाने की प्रगति अच्छी न पाये जाने पर मण्डलायुक्त ने संयुक्त निदेशक स्वास्थ्य को कार्य का अनुश्रवण करते हुए गोल्डेन कार्ड बनाये जाने के कार्य में तेजी लाये जाने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि यह योजना गरीबों के लिए बहुत ही लाभकारी है। कठिन समय में इस योजना का लाभ उठाकर अच्छे से अच्छा इलाज प्राप्त किया जा सकता है। इस पर विशेष ध्यान देते हुए लक्ष्य बनाकर काम करें। प्रचार-प्रसार के माध्यम से एवं ग्राम प्रधानों के सहयोग से कैम्प लगाकर ज्यादा से ज्यादा पात्र लोगों का गोल्डन कार्ड बनवाना सुनिश्चित करें। टीकाकरण के कार्य को भी लक्ष्य के सापेक्ष शत-प्रतिशत सुनिश्चित कराये जाने के लिए कहा है। पंचायतीराज विभाग के कार्यों की समीक्षा करते हुए मण्डलायुक्त ने पंचायत भवनों एवं सामुदायिक शौचालय के निर्माण कार्य को गुणवत्ता के साथ समय से पूर्ण कराये जाने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि मण्डल के जिन जनपदों में चिन्हित स्थानों पर सामुदायिक शौचालय बनाने का कार्य नहीं शुरू हुआ है या कोई व्यवधान है, सम्बंधित जिले के मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देशित किया कि उनके द्वारा खुद मानीटरिंग कर रूके हुए या किन्हीं कारणों से न शुरू हो पाये कार्यों को शुरू करायें। नगर विकास विभाग के कार्यों की समीक्षा करते हुए अमृत योजना के तहत घरों में पानी के कनेक्शन दिए जाने के कार्य में तेजी लाये जाने का निर्देश दिया है। स्मार्ट सिटी योजना के सम्बंध में उन्होंने सम्बंधित अधिकारी को निर्देशित किया कि इस योजना के अन्तर्गत कार्यरत कार्यदायी संस्थाओं के साथ लगातार बैठक करते हुए कार्य में तेजी लाये। राष्ट्रीय खाद्य्य सुरक्षा योजना के अन्तर्गत रिक्त दुकानों के आवंटन हेतु कार्यवाही करते हुए दुकानों के आवंटन की कार्यवाही को नवम्बर माह तक पूर्ण किए जाने का निर्देश दिया है। मत्स्य पालन हेतु तालाबों के आवंटन में प्रतापगढ़ में तालाबों का आवंटन कम पाये जाने पर नाराजगी जताते हुए तालाबों के आवंटन के कार्य को लक्ष्य के सापेक्ष पूरा करने के निर्देश दिये। पेंषन योजनाओें की समीक्षा करते हुए मण्डलायुक्त ने लाभार्थिंयों की निर्धारित किश्त समय से उनके खाते में प्रेषित कराये जाने हेतु आवश्यक कार्यवाही करने का निर्देश सम्बंधित अधिकारियों को दिया है। आंगनबाड़ी केन्द्रों के निर्माण कार्य में कौशाम्बी व प्रतापगढ़ में निर्माण प्रगति धीमी होने पर दिसम्बर माह तक गुणवत्ता के साथ पूर्ण किये जाने का निर्देश दिये है। दुग्ध विकास विभाग की समीक्षा करते हुए दुग्ध समितियों का गठन एवं पुनर्गठन के कार्य को पूरा करने के निर्देश दिये। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी प्रयागराज-श्री आशीष कुमार तथा अन्य सम्बंधित विभागों के मण्डलस्तरीय अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close