मध्यप्रदेश

नारी सुरक्षा और कानून पर विचार गोष्ठी संपन्न @ रिपोर्टर सुभाष चंद पटेल प्रयागराज नैनी

कलयुग की कलम

प्रयागराज आज नैनी के अरैल तिराहा स्थित” नारी सुरक्षा और कानून” पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया जिसमें डॉक्टर अनवार अहमद ने अपने संबोधन में कहा कि राष्ट्रहित में

पिछले काफी समय से प्रधानमंत्री से यह माऺग हम सबकी रही है कि देश में एक ऐसा कानून बनाया जाये जिसमें की कोई भी व्यक्ति अपने धर्म के अलावा, दुसरे धर्म में शादी न कर पाए और अगर उसको दुसरे धर्म में शादी करनी ही है तो लड़का लड़की के माऺ – बाप कोर्ट में हलफनामा दे की यह विवाह उनकी रज़ामंदी से हो रहा है l

एम ए खान ने अपने संबोधन में कहा कि अगर बिना माँ- बाप की मर्जी से कोई व्यक्ति दुसरे धर्म में विवाह करता है तो विवाह को रद्द किया जाए और लड़का और लड़की को 2-2 वर्ष की सज़ा दी जाए जिसमें की कोई ज़मानत न हो और अगर कोई लड़का – लड़की अपना धर्म छिपा कर प्रेम करते हैं तो जिसने अपना धर्म छिपा कर फर्जी प्रेम किया हो उसको कम से कम 5 वर्ष की सज़ा होनी चाहिए और अगर अपनी पहचान छिपा कर विवाह करले तो कम से कम 10 वर्ष की सज़ा होनी चाहिएl

सामाजिक कार्यकर्ता सरदार पतविंदर सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि आज कल के नवजवान अपनी हवस को पुरा करने के लिए फर्जी नाम और धर्म बदल कर प्यार का नाटक करते हैं और उनके इस नाटक से किसी की इज़्ज़त तो जाती ही है साथ ही सामाजिक महौल भी खराब होता है।

उन्होंने आगे कहा कि प्रधानमंत्री से मांग करते हैं कि वह इस प्रकार का एक कानून जल्द से जल्द लागू करें। विचार गोष्ठी में बड़ी तादाद में अभिभावक, अधिवक्ता, सामाजिक कार्यकर्ताओं सहित कई लोगों ने अपने विचार रखे शमशुल इस्लाम ने संगोष्ठी का संचालन किया l

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close