मध्यप्रदेश

💐पुलिया के इस पार “पंजा” 💐

वरिष्ठ पत्रकार मनोज शर्मा रतलाम

💐पुलिया के उस पार “पंजा”💐

    💐बीच मे “कमल”💐

“पंजा पार्टी” से दो पार्षदों के अरमान के घूॅघरे अभी से बजना शुरू……..?

मैं लड़ूंगा……. मैं लडूंगा…… मैं लडूंगा…….

रतलाम । अभी हाल ही में मध्य प्रदेश की 28 सीटों के उप चुनाव का चुनावी दौर थम चुका है । और अब बाजी है मतदाता की जो 3 नवंबर 2020 को भोले-भाले सीधे-साधे भारत भाग्य विधाता जागरूक मतदाता अपने-अपने मत-दान के इस महायज्ञ में आहुतियाॅ दे देकर यह तय करेंगे कि किसकी शंहशांहगिरी चलेगी और किसके पटिये उलाल होगें । यह तो आने वाला कल ही बतायेगा ? कि कौन कितने पानी में है ।

               अपने महाराणा प्रताप ब्रिज यानि कि सैलाना बस स्टैंड के “उस पार” पहलवान के खासम खास राम मंदिर के चार चौराहे पर कब से ही दम-खम ठोक रहे हैं । इधर पुलिया के “इस पार” खुद पहलवान शहीद चौक पर बहुत ही लम्बा-चौड़ा कट-आउट लगाकर अभी से ही झाॅकी मण्डप झलकाते हुये नजर आ रहे हैं ।

             जबकि आज की तय तारीख में सच्चाई यह है कि सारी रतलामी नगरी में सच्ची जनसेवा की नेतागिरी किसी को नी चढ़ी हुई होगा । लेकिन पुलिया के “उस पार” वाले पहलवान और पुलिया के इस पार वाले पहलवान का तो बस नी चाली रियो नी तो ई अबार और आज ही चुनाव लड़ ले । इसी से रतलामी जनता जनार्दन में कॉॅना फूॅसी चालवा लागी कि “तंदूरी रोटी” तो ई ही खावे बाकी तो सब “तवा पराठा” खावे। अबे तो ऐसे लागवा लागीग्यो कि दो-दो, तीन-तीन बार लड़ी लिया भई फिर भी जी है कि भरा ही नी रियो और लडनो है पार्षद को चुनाव और तैय्यारी का दण्ड ऐसा पेल रिया है कि महापौर या फिर विधायकी को चुनाव लडी रिया है ।

              पहले अपने दिग्गज आकाओं का बराबरी से विशवास और आशीर्वाद तो जीत लो कई थाही – थाही लडोगा तो बाकी कई सब थाणे -थाणे ही वोट दिया जावेगा । वी कई खाली – पीली झण्डा-डण्डा और दरी उठावा और ताली ही बजावोगा कई…………?

                इधर “कमल” वाले भैय्याजी अब की बार “सेठ बा” के देवरा ढोकू होन और चट्टा -बट्टा-हट्टा-कट्टा-पट्ठा का पूरी तरह से सूपडो साफ करिवा कि रणनीति तैय्यार करवा में लागी गया है ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close