मध्यप्रदेश

जिला जनसंपर्क कार्यालय उमरिया  खुशियो की दास्तां

विनीत कुमार जायसवाल ब्यूरो चीफ कलयुग की कलम राष्ट्रीय समाचार पत्रिका न्यूज़ वेबसाइट उमरिया

हिन्दू मुस्लिम साम्प्रदायिक सौहृार्द की मिशाल है पीपल चौक नौरोजाबाद का दुर्गाउत्सव

तीन दशकों से एकता की खुशबू घोल रहा युवाओं का दल

उमरिया 23 अक्टूबर – जिले में नौरोजाबाद का पीपल चौक हिन्दू मुस्लिम एकता की नायाब मिसाल पेश कर रहा है। हर साल नवरात्र में मुस्लिम युवा पण्डाल से लेकर प्रसाद वितरण, झांकी में सहयोग करते हैं। ईद व मोहर्रम के समय में हिन्दू समाज के लोग श्रद्धालुओं को लंगर वितरण से लेकर रख-रखाव का इंतजाम करते हैं।

नगर पंचायत नौरोजाबाद के पीपल चौक में त्यौहारो के दौरान हिंदू, मुस्लिम कि गंगा, जमुनी संस्कृति के दर्शन सहज रूप मे ही प्राप्त होते है। यहां की दुर्गा उत्सव कमेटी पिछले कई दशकों से नवरात्रि के दौरान दुर्गा प्रतिमा स्थापित करती आ रही है। प्रबंध समिति में हिन्दू समाज के साथ ही मुस्लिम युवा भी पूरी तन्मयता के साथ सहभागिता निभाते हैं। दुर्गा प्रतिमा के चयन से लेकर पण्डाल की सजावट, प्रतिदिन प्रसाद वितरण का काम रइसउद्दीन बेग उर्फ भल्लू भाई की टीम देखती है। टीम के 10-12 लोग अन्य साथियों के साथ मिलकर दुर्गा विसर्जन तक अपनी सहभागिता निभाते है। पिछले तीन साल से कमेटी को सर्वश्रेष्ठ झांकी का पुरस्कार भी मिला है। इस तरह ये लोग तकरीबन 20 साल से नई पीढ़ी को कौमी एकता का संदेश दे रहे हैं। मुस्लिमो के त्यौहार के दौरान संजय अग्रवाल व उनके साथी मिलकर काम करते हैं।

सामाजिकसद्भाव की अहम कड़ी रइसउद्दीन बेग उर्फ भल्लू भाई हैं। पण्डाल के समीप ही उनकी पान ठेला की छोटी सी दुकान हैं। सरल व सादगी स्वभाव वाले भल्लू सर्प पकडने से लेकर मृत्यु उपरांत अंतिम संस्कार में सहयोग के लिए आगे रहते हैं। वे बताते हैं तकरीबन 20 वर्ष से अधिक समय बीत गया तब से वे धार्मिक कार्य में अपना सहयोग देते आ रहे हैं। उनके साथ पूरी टीम एजाज(नीतू), सोभी, लल्लू, सलमान, भज्जू, जानू, एजाज भाई, मुन्नू, मिंटू व अन्य जागरुक युवा शामिल हैं। ये लोग दिन-रात पण्डाल सजावट, प्रसाद व झांकी सहित विसर्जन में शामिल रहते हैं।

आपसी प्रेम व सामाजिक समन्वय का यह नजारा मुस्लिम पर्व में भी देखने को मिलता है। कमेटी के लोग हर वर्ष मोहर्रम में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेते हैं। 58 वर्षीय दुर्गा कमेटी के संरक्षक जेपी पण्डा बताते हैं वे जब 11-12 साल के थे तब से यह परंपरा है। पीपल चौक में ताजियादारों की अगुवानी, लोगों के खानपान की व्यवस्था मदनमोहन सिंह, भगतराम जगवानी अन्य समुदाय के साथ मिलकर करते रहे हैं। इनकी टीम से सुशील, सुदर्शन, झाला पटेल, मदन पटेल, जयप्रकाश पाण्डेय, विध्नेश गौतम सहित अन्य लोग मिलकर लंगर व आसपास की साफ-सफाई, सजावट आदि में भूमिका निभाते हैं।

अध्यक्ष दुर्गा कमेटी संजय अग्रवाल का कहना है कि शुरू से लेकर आखिरी समय तक पण्डाल, सजावट व भण्डारे में सभी मिलकर काम करते हैं। फिर एक साथ बैठकर खाते भी हैं। यह सद्भावना का काम बीसों साल से चल रहा है। एक दूसरे के कार्यक्रमों में सहयोग का यह सिलसिला शादी, ब्याह से लेकर धार्मिक आयोजन ईद, मोहर्रम में जारी रहता है। यह एक मिशाल है नौरोजाबाद में।

रइसउद्दीन बेग उर्फ भल्लू कमेटी सदस्य का कहना है कि आस्था हर घर में होती है। ऐसे कार्यों में सभी को जात-पात से उठकर धर्मानुसार एक दूसरे की मदद करनी चाहिए। हम सभी लोगों को यही संदेश देना चाहते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close