मध्यप्रदेश

7 साल बाद आश छोड़ने के बाद पुलिस के सहयोग से जागी उम्मीद

विनीत कुमार जायसवाल ब्यूरो चीफ कलयुग की कलम राष्ट्रीय समाचार पत्रिका न्यूज़ वेबसाइट उमरिया

,7 साल बाद आश छोड़ने के बाद पुलिस के सहयोग से जागी उम्मीद आखिर मां बाप से बिछड़ी हुई बच्ची को पुलिस ने मिला दी,, फरियादी मुन्नालाल कोल पिता अघानू कोल उम्र 45 साल निवासी कोटरी ने वर्ष 2014 मैं रिपोर्ट किया कि बच्ची सुरज कोल उम्र 12 साल को किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा बहला-फुसलाकर भगा ले गया है की रिपोर्ट पर थाना इंदवार में अपराध क्रमांक 125/14 धारा 363 ,366 क ताहि कायम कर विवेचना में लिया गया विवेचना दौरान फरियादी के नात, रिश्तेदार आस-पास के गांव में रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, एवं बाल संप्रेषण गृह, अनाथालय सभी मिलने के संभावित जगहों पर पुलिस एवं फरियादी के परिवार के द्वारा पता तलाश की गई, 7 साल बीत जाने के बाद फरियादी व उसका परिवार बच्ची की आश छोड़ चुकी थी, बच्ची कुमारी सुरजू कोल की पता तलाश लगातार श्रीमान पुलिस अधीक्षक महोदय श्री विकाश कुमार शाहवाल के मार्गदर्शन

में एवं श्रीमान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक महोदय एसडीओपी महोदय के निर्देशन में लगातार टीम गठित कर थाना प्रभारी

इंद वार उपनिरीक्षक सुंद्रेश सिंह अपनी टीम के द्वारा लगातार पता तलाश किया गया तो बच्ची बाल संप्रेषण का बेगूसराय बिहार में होने की जानकारी लगी तब थाना प्रभारी द्वारा टीम भेजकर बाल संप्रेषण का बेगूसराय बिहार से बच्ची को दस्तयाब कर लाया गया और अपहृता बच्ची सूरजी कोल 19साल को इसके पिता मुन्ना कोल माता राधा देवी कोल को सुपुर्द किया तो अपने माता-पिता से मिलकर अपहृता व इसके माता-पिता गले से लिपट पड़े और खुशियों से आंसू रोकने से भी नहीं रुके ,, दस्तयाब करने में सहायक उप निरीक्षक संतोष भारद्वाज, आरक्षक 303 निलेश सिंह, महिला आरक्षक जीवनी सिंह का विशेष योगदान रहा,,,।

 

 

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close