उत्तरप्रदेश

नेहरू युवा केंद्र नमामि गंगे के अंन्तरगत मनाया गया वन प्राणी सप्ताह

सुभाष चंद्र पटेल रिपोर्टर नैनी प्रयागराज

प्रयागराज वन विभाग – नेहरू युवा केंद्र – नमामि गंगे प्रयागराज द्वारा ‘ वन प्राणी सप्ताह ‘ का आयोजन जनपद प्रयागराज में दिनांक 1 अक्टूबर से 7 अक्टूबर 2020 को किया गया रहा उसी के तहत नेहरू युवा केंद्र,नमामि गंगे परियोजना प्रयागराज के अंतर्गत सभी खण्ड के छात्रों को वन्य जीव संरक्षण हेतु जागरूक किया गया और ऑनलाइन व ऑफलाइन निबंध व चित्रकला प्रतियोगिता सौराव के गौरा गाँव में छात्रों के साथ वन्यजीव सप्ताह पर कार्यक्रम आयोजित किया गया।

और जिला परियोजना अधिकारी एषा सिंह द्वारा उनको वन्य जीव सप्ताह के जागरूक किया और वन्य जीव संरक्षण के बारे में विस्तार से बताया गया। साथ ही वन्य जीव और जलीय जीव डॉल्फिन, कछुआ आदि, वातावरण से सम्बंधित पर *निबंध व चित्रकला प्रतियोगिता आयोजित कराई गयी जिसमे छात्रों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया और अपनी प्रतिभा दिखाई। ये कार्यक्रम युवा उथान सेवा मंडल के सचिव सिद्धार्थ पांडे के सहयोग से आयोजित कराई गयी । निबंध व चित्रकला प्रतियोगिता कार्यक्रम परियोजना से जुड़े स्वयं सेवक व गंगदूतो द्वारा अनलाइन लगातार 7 अक्टूबर तक चलाई गयी। इसे सप्ताह ही डॉल्फिन दिवस पर भी के कार्यक्रम आयोजित किये गए जिसमे चित्र कला प्रतियोगता के अलवा नमामि गंगे प्रयागराज द्वारा गंगा की जैव विविधता पर राम सागर तालाब, नैनी, प्रयागराज में जैव विविधता में कछुओं का महत्व पर मिला गंगा दूतो को ऑनसाइट प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमे अतिथि वक्ता *भारतीय वन्यजीव संस्थान विशेषज्ञ विपुल मौर्या, कृष्णा उपाध्याय, सुमित नौटियाल द्वारा गंगा की जैव विविधता और कछुआ पर ज्ञानवर्धक चर्चा की। विपुल मौर्या ने जल जीव कछुये के बारे में कई रोचक बातें बताईं। ये कछुए पानी के हानिकारक जीवों, मृत कीड़ों-मकीड़ों और इनमें पड़ने वाली गंदगी को खाकर नष्ट कर देते है।कछुए जलीय जैव विविधता को संतुलित करते है। जलीय जीवों और वनस्पतियों के लिए स्वस्थ वातावरण तैयार करते है। इसीलिए इन्हें प्रकृति का सफाई कर्मी कहा जाता है। और इनके संरक्षण के लिए ठोस उपाय किए जाने की जरूरत है।इस कार्यक्रम में स्वछता ब्रैंड अंबासडर नमामि गंगे स्पीयरहेड टीम राजेंद्र कुमार दुकान जी ने कहा नदियो के अन्दर रहने वाले जिव जन्तुओ को बचाना हमारा आपका समाज का कर्तव्य है जिनके कारण हम शुद्ध अम्रित जल प्राप्त कर पाते है तो हम सब संकल्प ले की नदियो को बचाना है तो उनमे रहने वाले जन्तुओं को हर सम्भव बचाने का प्रयास करेगे हमे प्रशन्नता है कि हमारे प्रयागराज के लाच्छाग्रिह के पास नदी मे अच्छे तादात मे डाल्फिन पल पल मे दिखाईं पढती है जिससे जल का शुद्धिकरण स्पष्ट दिखाई पढता है एक बात अवश्य ध्यान रखना होगा कुछ समय जब मछली प्रजनन करतीं हैं कुछ दिन तक मछली का शिकार नहीं करना चाहिए उपस्थित लोगों मे राष्ट्रीय स्वयंसेवक रवि शंकर, रवि भास्कर, युवा मंडल अध्यक्ष वल्लभ भाई पटेल व अन्य गंगा दूत, युवा मंडल एव वन्य जीव – जलीय जीव सहित पर्यावरण संरक्षण नमामि गंगे में रुचि रखने वाले अनेक नागरिकों ने प्रतिभाग किया और गंगा की जैव विविधता से सीधे जुड़े संबंधित विषयों पर आपने सवाल भी पूछे जिसे विशेषज्ञों द्वारा उसे विस्तार मे समझाया भी गया। सभी कार्यक्रम वन विभाग के जिला वन अधिकारी श्री वाई पी शुक्ल के मार्गदर्शन व सहयोग से संपूर्ण हुआ है ।

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close