प्रयागराज

शहीद वीर भगत सिंह की 113 वीं जयंती पर युवाओं को संदेश   

रिपोर्टर सुभाष चंद्र पटेल नैनी प्रयागराज कलयुग की कलम

प्रयागराज के अलोपिन चुंगी स्थित तिकोनिया पार्क में राष्ट्रीय सामाजिक सुरक्षा संगठन द्वारा आयोजित भगत सिंह जयंती कार्यक्रम में एनएसयूआई राष्ट्रीय संयोजक व संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष निखिल श्रीवास्तव स्वतंत्र युवा ने भगत सिंह की 113 वें जयंती पर भगत सिंह की प्रतिमा को तिलक लगाकर व माल्यार्पण कर कार्यक्रम की शुरुआत की..!!

 

राष्ट्रीय अध्यक्ष निखिल श्रीवास्तव स्वतंत्र युवा* ने जनसमूह से रूबरू होकर भगत सिंह के जीवन से संबंधित कई रोचक कथाओं का गुणगान किया और अपने हक और अधिकार के लिए लड़ने के लिए युवाओं का उत्साहवर्धन किया और सामाजिक हर लड़ाई को उनके साथ लड़ने का वादा किया, उन्होंने बताया कि

आज पूरा देश शहीद ए आज़म भगत सिंह की जयंती मना रहा है। इस वीर योद्धा की सबसे बड़ी ख़ासियत यह है कि जिनका विचार भगत सिंह के विचारों से ठीक उल्टा है वो भी इनको अपना आदर्श मानते हैं। कई लोग भगत सिंह के योगदान को बम-पिस्तौल, सोंडर्स की हत्या, जेल और फाँसी से ज़्यादा नहीं समझते। असल में भगत सिंह की वैचारिकी बिल्कुल साफ़ और स्पष्ट थी। वो कहते थे बम और पिस्तौल कभी इंक़लाब नहीं ला सकते। उनके इंक़लाब की समझ के अनुसार जब तक किसी एक मनुष्य का किसी दूसरे मनुष्य द्वारा शोषण हो रहा हो तब तक इंक़लाब की लड़ाई बाकी है। उनकी आज़ादी का मतलब सिर्फ़ अंग्रेजों को देश से भगा देने भर तक सीमित नहीं था वो व्यवस्था परिवर्तन की बात करते थे। जान बूझ कर भगत सिंह को हिंसा की बहस तक समेटने की साज़िश की गई ताकि भगत सिंह को गांधी के विरुद्ध खड़ा किया जा सके जबकि भगत सिंह कहते थे कि अगर जेल से निकल पाया तो देश की स्वतंत्रता के लिए और व्यवस्था परिवर्तन के लिए जन-आंदोलन में शामिल होऊँगा। भगत सिंह के जिन साथियों को फाँसी नहीं हुई उनमें से ज़्यादातर लोग उस वक़्त की कॉम्युनिस्ट पार्टी में शामिल भी हुए। उनके जेल के साथी अजय घोष तो बाद में भारतीय कॉम्युनिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव भी बने। शुरू से ही भगत सिंह पर समाजवादी और साम्यवादी विचारधारा का गहरा प्रभाव था। भगत सिंह हिंदुस्तान रिपब्लिकन आर्मी का नाम बदलकर हिंदुस्तान सोशियलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी करने का प्रस्ताव लेकर आए थे। इनकी वैचारिक स्पष्टता एक बड़ी वजह थी कि अंग्रेज किसी भी सूरत में भगत सिंह को फाँसी पर चढ़ाना चाहते थे। जब उनको फाँसी पर चढ़ाने के लिए सिपाही लेने आए तो उन्होंने कहा “थोड़ा ठहर जाओ एक क्रांतिकारी दुसरे क्रांतिकारी से मिल रहा हैI” उस वक़्त वो लेनिन की किताब ‘राज्य और क्रांति’ पढ़ रहे थे। भगत सिंह की जेल डायरी को हर किसी को पढ़ना चाहिए ताकि इस महान योद्धा को समग्रता में समझा जा सके। वो समझ सकें कि आज अगर भगत सिंह होते तो किसानों के फसल के दाम के लिए, बेरोज़गारों के काम के लिए, हर आवाम के लिए इस बेरहम सत्ता के सामने सर उठा कर लड़ रहे होते। सत्ता के सामने झुक जाना, समझौता कर लेना, माफ़ी माँग लेना, ये भगत सिंह होने के विरुद्ध है। इसलिए साथियों, न्याय के लिए, बराबरी के लिए अपनी आवाज़ बुलंद करना, किसानों के पक्ष में खड़ा होना, सबके रोज़गार के लिए लड़ना, किसी भी शोषण और अन्याय का डट कर मुक़ाबला करना ही शहीद ए आज़म भगत सिंह को सही मायनों में याद करना है। दरअसल भगत सिंह आज भी जनता के संघर्षों में ज़िंदा हैं।

“हमारा अरमान, भगत सिंह के सपनों का हिंदुस्तान है..!! “

अंत मे कहा कि अपने लक्ष्य के बीच बाधक बनने वाले लोगों के खिलाफ संघर्ष ही शहीद भगत सिंह जी को सच्ची श्रद्धांजलि है..!!

राष्ट्रीय संयोजक पंडित अक्षित वशिष्ठ ने कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए युवाओं को वीर भगत सिंह की ऊर्जा से रूबरू कराया, साथ ही उनके बाल्यकाल से लेकर उनके शहीद दिवस तक के जीवनकाल को संक्षेप में बताकर युवाओं को क्रांति के लिए उत्प्रेरित किया..!!

कार्यक्रम का सफल संचालन एडीसी छात्रनेता रौनक आज़ाद तिवारी ने किया..!!

संगठन के प्रयागराज महानगर अध्यक्ष हिमांशु सोनकर अरिजीत ने कार्यक्रम के अंत मे गरीबों व कार्यक्रम में उपस्थित जनता में मिष्ठान वितरण किया..!!

कार्यक्रममें मुख्य रुप से राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रत्युष गुप्ता, प्रदेश महासचिव शिवम प्रताप सिंह, महानगर उपाध्यक्ष कृष्णा विश्वकर्मा, अमित यादव, अनजान वैभव सिंह, अमन तिवारी गोलू, अनुज तिवारी, राज द्विवेदी, कोषाध्यक्ष मोहम्मद बसर, सचिव प्रभारी अमन विश्वकर्मा, सचिव प्रकाश भारतीय, सचिव कपिल वर्मा,

कार्यकारिणी सदस्य अभिषेक विश्वकर्मा समेत जनसमूह भी एकत्रित हुआ..!!

यह जानकारी प्रेस को दुकानजी ने दिया

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close