मध्यप्रदेश

प्रशासन की उदासीनता से के लिए दर-दर भटकने को मजबूर मेराज अहमद अंसारी

K K K न्यूज रिपोर्टर, नैनी

सुभाष चंद्र पटेल

धोखाधड़ी करने वाले के प्रताड़ना से भाई की सदमे में मौत।

प्रयागराज घूरपुर प्रशासन उदासीनता से मेराज अहमद अंसारी नया हेतु दर-दर भटकने को मजबूर है जबकि धोखाधड़ी करने वाले के प्रताड़ना से उसके भाई नबी की सदमे से मौत हो चुकी है।
जानकारी के अनुसार प्रयागराज के मेराज अहमद अंसारी पुत्र स्व.मोहम्मद इस्माइल अंसारी, निवासी- बख्शी बाजार, थाना-खुल्दाबाद ने अर्जुन पटेल पुत्र स्व.जंगीलाल पटेल, निवासी-बसवार मुरली पोस्ट, थाना-घूरपुर से 16 मार्च 2010 को रुपये देकर जमीन का एक टुकड़ा खरीद लिया व तत्सम्बन्धी विक्रय विलेख पत्र उपनिबंधक के सामने कराया व सीलिंग से अवमुक्त उक्त जमीन का खारिज दाखिल भी मेराज अहमद अंसारी के हक में हो गया तथा क्रय की गई जमीन पर अब वह मुर्गी पालन केंद्र चला रहा है लेकिन लालच के वशीभूत होकर धोखाधड़ी करते हुए अर्जुन पटेल ने 2010 में विकृत जमीन का ही 10 साल बाद 11 फरवरी 2020 को रोहित कुमार शुक्ल (भदोही) तथा आनन्द गिरि (करछना) के हक में इकरारनामा भी कर दिया है व अब अर्जुन पटेल आये दिन दबंगों के साथ मेराज के मुर्गी पालन केंद्र को बंद कराने व उसे जान से मारने की धमकी देता रहता है। उसके दबंगई से त्रस्त मेराज के भाई डॉ. नबी अहमद अंसारी की हार्ट अटैक से मौत हो चुकी है। मेराज ने 14 जून 2020 को थानाध्यक्ष घूरपुर से प्रकरण की शिकायत की लेकिन कोई कार्यवाही न होने पर 18 अगस्त 2020 को एसएसपी प्रयागराज से लिखित शिकायत करने के साथ ही आईजीआरएस पर भी शिकायत की लेकिन उसे न्याय नही मिला है। बड़ा सवाल तो यह है कि सारे वैध कागजात के बावजूद मेराज अहमद अंसारी को प्रशासन से न्याय क्यों नही मिल पा रहा है?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close