मध्यप्रदेश

बदहाल कंगाल कर्जे के आकंठ में डूबी मध्य प्रदेश सरकार जो आम जनता के लिए विगत 3 माह से परिवहन की व्यवस्था उपलब्ध कराने में फेल हो गई है उसी सरकार के मुखिया को मध्यप्रदेश में उड़ान भरने के लिए 60करोड़ का नया उड़न खटोला खरीदा गया है जोकि मध्य प्रदेश की गरीब जनता के लिए किसी मजाक से कम नहीं है l

कलयुग की कलम

यहां पर यह उल्लेखनीय है कि 2,10,000 करोड़ के कर्ज के आकंठ में डूबी मध्य प्रदेश सरकार वर्तमान करो ना महामारी के दौरान आम जनता के इलाज की व्यवस्था करने में एकदम धराशाई तो हुई ही किसी भी राज्य की विकास की गाड़ी तभी दौड़ती है जब उस राज्य में परिवहन की व्यवस्था भी तेजी से दौड़े कोरोना महामारी के दौरान मध्य प्रदेश की चारों सीमाओं में स्थित उत्तर प्रदेश गुजरात राजस्थान महाराष्ट्र मैं विगत 3 माह से राज्य परिवहन की बसें दौड़ रही है परंतु मध्यप्रदेश में परिवहन की व्यवस्था विगत 2 दिन से चालू होने की सुगबुगाहट देखी जा रही है अभी भी मध्य प्रदेश के सुदूर ग्रामीण अंचलों से तहसील मुख्यालय जिला मुख्यालय अस्पताल कचहरी थाना को जोड़ने वाली बसों को चलने में मध्य प्रदेश की सरकार को पसीने आ रहे हैं l

वैसे देखा जाए तो मध्य प्रदेश के विशाल क्षेत्रफल में प्राइवेट परिवहन की बसों का लोगों की जाती जिंदगी से 50% ज्यादा का रिश्ता है आदिवासी बहुल जिलो अनूपपुर शहडोल उमरिया डिंडोरी मंडला बालाघाट शिवनी नीमच खरगोन रतलाम क्षेत्रों के ग्रामीण बहनों ने बसों की परिवहन व्यवस्था ना होने के कारण इस बार अपने भाइयों के हाथों में राखी तक नहीं बन सकी इसके बावजूद भी मध्य प्रदेश सरकार अपने सीएम जो वह ने राखी नहीं बन सकी जिन भाइयों की कलाइयां बिना राखी की सुनी रही उनके मामा को मध्यप्रदेश में उड़ने के लिए सात करोड़ का नया उड़न खटोला खरीद के लाया गया है भाजपा सरकार का यह फैसला गरीब जनता के लिए उनकी गरीबी का मजाक उड़ाने का कार्य हैl

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close