UNCATEGORIZED

“भाजपा नेता मुख़्तार अब्बास नकवी एंव सैयद शाहनवाज़ हुसैन का नाम बदलें भाजपा “

कलयुग की कलम

“भाजपा नेता मुख़्तार अब्बास नकवी एंव सैयद शाहनवाज़ हुसैन का नाम बदलें भाजपा “

“हिंदुत्व के सहारे देश में नाम बदलो फूट डालो राज करो की भाजपा नीति ने देश बर्बाद किया”

“आदिवासीयों के नाम पर मुख्यमंत्री कुर्सी बचाने में लगे”

इन्दौर,भाजपा हिंदुत्व का दुरूपयोग करके देश का इतिहास बदलने की नाकाम कोशिश कर रही हैं।म.प्र. में शिवराज सरकार बिना रोड़मेप के प्रदेश को बर्बाद करने की दिशा में आगे लगातार बढ़ रही हैं।

म.प्र.कॉंग्रेस कमेटी के प्रदेशसचिव राकेश सिंह यादव ने आरोप लगाया हैं की मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपनी कुर्सी बचाने के लिए शहरों एंव रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर भाजपा सरकार की निष्क्रियता पर पर्दा डालने की असफल कोशिश कर रहे हैं।हिंदुत्व का सहारा लेकर फूट डालो राज करो की नीति पर प्रदेश में हिंदू मुस्लिम एकता को खंडित करना चाहते हैं।मुख्यमंत्री के पास अपने कार्यकाल में बताने की एक भी उपलब्धि नहीं हैं,इसलिए म.प्र.की जनता को भ्रमित कर रहे हैं।भाजपा के सांसद और नेता चिल्लाते रहे की हबीबगंज रेलवे स्टेशन का नाम पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर रखा जाये लेकिन सीएम अपनी कुर्सी बचाना चाहते हैं इसलिए अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर रेलवे स्टेशन का नाम नहीं रखा गया क्योंकि पीएम मोदी को राजधर्म का पाठ अटल बिहारी वाजपेयी ने ही पढ़ाया था।इसलिए मुख्यमंत्री पीएम मोदी को नाराज़ नहीं करना चाहते हैं।आदिवासीयों एंव जन जातियों के साथ भी छलावा किया जा रहा हैं।पिछले 16 साल के शासन में मुख्यमंत्री ने एक भी कार्य आदिवासीयों के हितों के लिए नहीं किया हैं।अगर मुख्यमंत्री आदिवासियों के सच में हितेषी हैं तो पिछले 16 साल में आदिवासियों के लिए करें गये विकास कार्यों की जानकारी सार्वजनिक मंच से जनता को प्रदान करें।लेकिन मुख्यमंत्री ऐसा कर नही पायेगें क्योंकि सिर्फ़ झुठी घोषणाएँ बहुत की हैं लेकिन काम आदिवासियों के हित में एक भी नहीं किया हैं।

आदिवासियों एंव जनजाति के समुदाय को घर पहुँच राशन योजना सिर्फ़ घोषणा बनकर रह गई।न राशन मिला न वाहन मिला न रोज़गार मिला।2017 में आदिवासियों को एक हज़ार रूपये प्रतिमाह देने की घोषणा भी सिर्फ़ घोषणा बनकर रह गई।ऐसे अनेक उदाहरण मुख्यमंत्री की असफलता का महिमामंडन करते हैं।

आदिवासीयों के नाम पर राजनैतिक रोटियॉं सेंकने वाले मुख्यमंत्री ने आदिवासी गौरव दिवस मनाने के लिए आयोजन कमेटी में एक भी भाजपा के आदिवासी नेता को शामिल नहीं किया हैं।यह समझ से परे हैं की यह आदिवासी नेतृत्व का सम्मान हैं या घोर अपमान हैं।इससे स्पष्ट होता हैं की आदिवासीयों के नाम पर कुर्सी बचाने की आख़री कोशिश में मुख्यमंत्री तन मन और आम जनता के धन को स्वाहा करके राजनैतिक हवन में आहुति दे रहे हैं।

भाजपा के कथित हिंदुत्व के माध्यम से भाजपा नेता मुख़्तार अब्बास नकवी का नाम भी बदलकर प.मदन अवतार नकवी रखना चाहिए एंव इसी तरह भाजपा के नेता सैयद शाहनवाज़ हुसैन का नाम बदलकर श्री शाह अरमान हुसैन रखना चाहिए ।जिससे यह स्पष्ट हो जाये की कथित हिंदुत्व के कारण भाजपा अपने नेताओं का नाम परिवर्तित करके फ़र्ज़ी हिंदुत्व के ठेकेदारों के सामने आदर्श उदाहरण प्रस्तुत करें।

प्रदेशसचिव यादव ने उम्मीद की हैं की भोपाल सांसद प्रज्ञा सिंह एंव पूर्व प्रोटेम स्पीकर आलोक शर्मा सुझाव का समर्थन करके पीएम से दोनों नेताओं का नाम परिवर्तित करने की मॉंग रखेंगे ।देश एंव प्रदेश की जनता के सामने भाजपा का चेहरा बेनक़ाब हो गया हैं।हिंदुत्व के नाम पर हिंदू मुस्लिम के बीच फूट डालो राज करो की अँग्रेजों की नीति पर क़ायम नहीं रहना चाहिए।

राकेश सिंह यादव

प्रदेशसचिव

म.प्र.कॉंग्रेस कमेटी

भोपाल

Related Articles

error: Content is protected !!
Close