UNCATEGORIZED

“भाजपा के विधायकों एंव सांसद का राष्ट्रवाद और देशभक्ति बेनक़ाब “

कलयुग की कलम डॉट कॉम न्यूज भोपाल

“भाजपा के विधायकों एंव सांसद का राष्ट्रवाद और देशभक्ति बेनक़ाब “

“ड्रामेबाज़ सिंधिया के सामने भाजपा विधायक एंव सांसद गुलाम सिद्ध हुए”

“मंत्री सिंधिया को रानी लक्ष्मीबाई प्रतिमा पर श्रद्धा-सुमन अर्पित कराने में असफल भाजपा विधायकों एंव सांसद ने देशभक्ति प्रदर्शित करने के लिए एक लाख रूपये का ईनाम नहीं जीत पाये।

“भाजपा सांसद एंव विधायकों में राष्ट्रभक्ति एंव रानी लक्ष्मीबाई के प्रति सम्मान नहीं “

KKK न्यूज भोपाल

इन्दौर,म.प्र. में जनआर्शिवाद यात्रा की नौटंकी पर निकलने वाले केंद्र सरकार में भाजपा के मंत्री सिंधिया में अचानक देशभक्ति का जज़्बा जाग गया हैं।सत्ता के नशे में मदहोश सिंधिया इन्दौर में अपने राजपरिवार का झुठा गुणगान करके इतिहास बदलने की नाकाम कोशिशें करने लगे हैं लेकिन ग़द्दारी का कलंक सिंधिया के माथे पर तिलक स्वरूप में विघमान हैं ।

म.प्र.कॉंग्रेस कमेटी के प्रदेशसचिव राकेश सिंह यादव ने बताया की मंत्री सिंधिया खरगोन के पास बाजीराव पेशवा (प्रथम) की जयंती के अवसर पर समाधि स्थल पहुँचकर देशभक्ति एंव वफादारी की बड़ी-बड़ी डींगें हॉंक रहे थे।लगता हैं भाजपा में जाने के बाद सिंधिया अपना कलंक धोने की कोशिश कर रहे हैं।मंत्री सिंधिया के बदलते स्वरूप एंव भाजपा के विधायकों एव इन्दौर के सांसद की देशभक्ति का सत्यापन करना इन्दौर की जनता के लिए बहुत आवश्यक था।जनआर्शिवाद लेने के लिए सिंधिया पॉंचों विधानसभा में अनेक मंचों बेनर पोस्टर ढोल ताशे के साथ मात्र दो हज़ार के लगभग कार्यकर्ताओं के साथ दिनभर इन्दौर की सड़कों पर करतब दिखाते रहे लेकिन देशभक्ति और राष्ट्रवाद का दावा करने वाली भाजपा रानी लक्ष्मीबाई का सम्मान कराने से भाग खड़ी हुई।

मंत्री सिंधिया के गुलाम और अर्दली बनकर भाजपा के जीते हुए विधायक डॉंट खाकर भी सत्ता सुख के लालच में जी हजूरी करते रहे।दूसरी तरफ़ भाजपा के वरिष्ठ नेता सिंधिया के सामने पीटते रहे।

भाजपा के संस्कार का असली चेहरा इन्दौर की जनता ने देख लिया हैं।सवा लाख वोटों से हारा कथित महाराज की ग़ुलामी इन्दौर के जीते जनप्रतिनिधि कर रहे हैं।इससे ज़्यादा अपमानजनक भाजपा विधायकों के लिए और क्या हो सकता हैं।

इसलिए इन्दौर में भाजपा के समस्त विधायकों एंव सांसद को एक लाख रूपये ईनाम की राशि देने की घोषणा की गई थी।यह एक लाख रूपये की राशि इन्दौर का वह विधायक या सांसद जीतता जो इन्दौर स्थित रानी लक्ष्मीबाई की प्रतिमा पर मंत्री सिंधिया से श्रद्धा सुमन अर्पित कराकर महारानी लक्ष्मीबाई के सम्मान में चरणों में शीश झुकाता लेकिन भाजपा की राष्ट्र भक्ति एंव रानी लक्ष्मीबाई के प्रति भाजपा विधायको एंव सांसद का कितना सम्मान हैं यह भी स्पष्ट हो गया हैं।इसके साथ ही सिंधिया का चाल चरित्र चेहरा भी सामने आ गया हैं क्योकि बाजीराव पेशवा की जयंती मनाना सही में देशभक्ति नहीं थी।सिर्फ़ सिंधिया की नौटंकी थी।इन्दौर के भाजपा विधायकों के चरित्र का सत्यापन भी हो गया हैं बिना मेरूदंड के भाजपा विधायक महाराज के गुलाम साबित हुए हैं।राजनैतिक फ़ायदे के लिए कहॉं तक गिरकर राजनैतिक महत्वाकांक्षा की पूर्ति की जा सकती हैं यह भाजपा के विधायकों एंव सांसद से ईमानदार भाजपा कार्यकर्ताओं को सिखना चाहिए।यह सवाल हैं इन्दौर के भाजपा विधायकों एंव सांसद से क्या एक लाख रूपये का ईनाम जीतने की हिम्मत एंव देशभक्ति का जज़्बा दिखाने की हिम्मत दग़ाबाज़ सिंधिया के सामने नहीं कर सके हैं या फिर सिर्फ सिंधिया का गुलाम बनकर एक लाख का ईनाम नहीं जीतकर सिंधिया को वफादार साबित करके दिखाने के साथ रानी लक्ष्मीबाई का अपमान कर रहे हैं।मंत्री सिंधिया सुभाष मार्ग से अपनी नौटंकी की जनआर्शिवाद यात्रा लेकर गुजर लेकिन जहॉं से रानी लक्ष्मीबाई की प्रतिमा मात्र पॉंच सौ मीटर पर स्थित हैं।वहॉं तक इन्दौर के भाजपा नेता रानी लक्ष्मीबाई का सम्मान नहीं बढ़ा पायें। सिर्फ सिंधिया के गुलाम सिद्ध होकर चुप रहें।आज यह स्पष्ट हो गया की मंत्री सिंधिया एंव भाजपा का विधायकों एंव सांसद का चाल चरित्र चेहरा क्या हैं।

जनता शर्मिंदा हैं जनप्रतिनिधियों को चुना था लेकिन सत्ता के लालच में महाराज के गुलाम बन गये।

राकेश सिंह यादव

प्रदेशसचिव

म.प्र.कॉंग्रेस कमेटी

भोपाल

 

Related Articles

error: Content is protected !!
Close