UNCATEGORIZED

भाजपा जिलाध्यक्ष की करनी और कथनी से बार बार धूमिल होती पार्टी की छवि को बचाते हुए सांसद ने मीडिया से कहा,

कलयुग की कलम डॉट कॉम न्यूज

जय जय की अध्यक्षता करने वाली पार्टी से बार बार धूमिल पार्टी की छवि को बचाने के लिए मीडिया से,

व्यक्तिगत रूप से प्रभावित हो सकता है

 

कटनी। एंप्लॉयर के रूप में अच्छी तरह से वैसी राम रतन पावेल की तरह से खराब होने के कारण खराब होने के बाद बैटर पाउडर के रूप में खराब हो सकता है। मौसम खराब होने पर मौसम खराब होने की स्थिति में यह ठीक होगा। इस तरह के प्रबंधन के बाद प्रबंधन ने पोस्ट किया होगा – पर्यावरण की गड़बड़ी में गड़बड़ी हो सकती है। व्यक्ति को संक्रमण हो सकता है। इस तरह से व्यवहार करने के लिए उपयुक्त है। चार्ज करने के लिए खराब मौसम वाले भी थे।

बताते चलें कि स्थानीय मीडिया ने पिछले दिनों बिना डीपी के एक ओवर लोडेड वाहन को रोककर उसके ड्राइवर से जानकारी ली तो उसके ड्राइवर ने कहा था कि हमारे पास किसी प्रकार की डीपी नहीं होती यह जिलाध्यक्ष राम रतन पायल संदीप पायल के ट्रक हैं। हम रोज एलएनटी को इसी तरह गिट्टी सप्लाई करते हैं।

इस पर मीडिया ने यह खबर सार्वजनिक कर दी थी कि,रायल्टी चोरी और ओवरलोडिंग को जिला प्रशासन एवं पुलिस पूरे सम्मान के साथ संचालित होने देती है। बीजेपी जिला अध्यक्ष के प्रभावशाली रुतबे की आड़ में जिले में अवैध गोरखधंधे की छूट देने वाले जिलाध्यक्ष राम रतन पायल इसके बाद मीडिया से खुन्नस रखने लगे थे। उन्होंने खबर टेलीकास्ट करने वाले कुछ इलेक्ट्रॉनिक मीडिया कर्मियों से और वेब पोर्टल के पत्रकारों तक अपनी नाखुशी पहुंचाई थी। एक पत्रकार को उन्होंने निजी तौर पर कहा था कि वह ब्लैकमेलर है और इस तरह के समाचार चला रहा है। इसलिए मीडिया ने सांसद विधि शर्मा के साथ कलेक्ट्रेट के गेट पर उनसे बातचीत की और भाजपा जिला अध्यक्ष के इस आचरण की जानकारी उन्हें दी। जिस पर सांसद ने स्पष्ट कर दिया कि भाजपा पार्टी का इस आचरण से कोई लेना देना नहीं है। व्यक्ति बुरा हो सकता है संस्थाएं बुरी नहीं होती।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की इस टिप्पणी पर वहां मौजूद विधायक त्रय संजय पाठक,संदीप जायसवाल, प्रणय पांडे, पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष पीतांबर टोपनानी, पूर्व महापौर शशांक श्रीवास्तव एवं अन्य प्रमुख भाजपा नेता सन्न रह गए। आने वाला समय बताएगा कि प्रदेश अध्यक्ष को अपने जिला अध्यक्ष का यह आचरण पार्टी हित में कितना अनुकूल अथवा प्रतिकूल लगता है।

बहिष्कार, घेराव, काला झंडा और अब पत्रकारों पर लांछन

उल्लेखनीय है कि भाजपा जिला अध्यक्ष के कार्यकाल में पग पग पर प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा को परिस्थितियों से दो-चार होना पड़ा है।चाहे वह जिला अध्यक्ष की बद इंतजामियों के कारण उनकी प्रेस वार्ता का बहिष्कार का मामला हो, चाहे सामुदायिक भवन के सामने बीजेपी के पूर्व ननि अध्यक्ष के द्वारा किया गया अपने ही सांसद का विरोध प्रदर्शन हो, अथवा एनएसयूआई के कार्यकर्ता द्वारा प्रदेश अध्यक्ष को दिखाए गए काले झंडे हो और आज अवैध ओवरलोडेड परिवहन की खबर साया करने वाले मीडिया को ब्लैकमेलर कहकर जिले में अपराध को बढ़ावा देने वाले आचरण से पार्टी की प्रतिष्ठा को आघात पहुंचाने का मामला उनके सामने आया।

भावी कु -संभावनाएं कौन सा रूप लेंगी

भविष्य के लिए आगे बढ़ने के बाद भी भविष्य में यह खतरनाक हो सकता है। गैर-गोरखधंधा के संचार खराब होने वाले मिडिया कोसंस्कृत रूप से डिस्पेंसर से जन को जन को जन संदेश भेजा जाता है। इस अभियान में पूरी तरह से सफल होने की स्थिति है।

 

Related Articles

error: Content is protected !!
Close