UNCATEGORIZED

मानसून बना किसानों के लिए मुसीबत खेतों में पड़ा बीज हुआ खराब

कलयुग की कलम

मानसून बना किसानों के लिए मुसीबत खेतों में पड़ा बीज हुआ खराब

चित्रकूट जिला के भरतकूप क्षेत्र में इस बार मानसून का दगा किसानों पर भारी पड़ रहा हैं। जुलाई माह के भी 16 दिन गुजर चुके हैं लेकिन क्षेत्र में बारिश नहीं हो रही हैं घटाऐ आती हैं और बिना बरसे ही निकल जाती हैं। किसान इंद्र राजा से प्रार्थना करते नजर आते हैं कि बरस बरस म्हारा इंद्र राजा,तु बरस्यो म्हारा काज सरे 17 जुलाई गुजर चुकी हैं लेकिन क्षेत्र में अभी तक भी सड़कों पर धूल उड़ रही हैं। ऐसी स्थिति में क्षेत्र में इस बार मानसून के रूठ जाने से किसानों की उम्मीदें टूटने लगी हैं तथा खेतों में एक सप्ताह पूर्व बुवाई कर चुके बीज अंकुरित तक नहीं हो पा रहे हैं

क्षेत्र में किसान जहां आसमान की ओर टकटकी लगाए देख रहा हैं वहीं देवी देवताओं की पूजा अर्चना कर रूठे इंद्र देव को मनाने में जुटे हुए हैं। कर्वी क्षेत्र में इस बार मानसून इस कद्र रूठा हैं कि जिससे क्षेत्र में खेत सूखे पड़े हैं पिछले एक पखवाड़े से पूर्व क्षेत्र में बारिश हुई थी उसके बाद किसानों ने अपने खेतों में ,उड़द,अरहर ,ज्वार,तीली, सहित अन्य फसलों की बुवाई कर दी थी लेकिन उसके बाद बारिश नहीं होने से जहां किसानों द्वारा बोया गया बीज भी अंकुरित तक नहीं हो पाया और बारिश के अभाव में बीज खराब तक हो गया हैं। किसान कालूलाल नागर,नरेश भील,रामप्रसाद मीणा,चंद्रप्रकाश मीणा सहित कई किसानों ने बताया कि जैसे तेसे करके इस बार बीज का इंतजाम करके फसलों की बुवाई की थी लेकिन मानसून की बेरूखी ने सब कुछ खराब कर दिया तथा अगर जल्द ही एक दो दिन में बारिश नहीं हुई तो खेतों में बोया बीज फसलें खराब हो जाएगी। भरतकूप, क्षेत्र सहित नगर में इस बार मानसून की बेरूखी तथा 17 जुलाई बीतने के बाद भी बारिश नहीं आने से जहां किसान निराश परेशान हैं जिसको लेकर किसान इन दिनों रूठे देवी देवताओं को मनाकर इंद्र देव को मनाने के जतन कर रहे जहां गांव गांव में मंदिरों में पूजा अर्चनाओं का दौर जारी हैं। यहां तक कि सालों अपने घरों में रखे सारे बीज को खेतों में बुवाई कर दिए हैं अब बीज मारी होने के बाद किसानों के पास इतना भी बीज नहीं बचा कि वह दोबारा खेत की बुवाई करा सकें सबकी निगाहें आप सरकार के आदेश के लिए टिकी हुई है कि किसी रूप में किसानों की सरकार मदद करें

Related Articles

error: Content is protected !!
Close