उत्तरप्रदेश

महर्षि विद्या मन्दिर नैनी में महर्षि द्वारा प्रणीत भावतीत ध्यान कार्यशाला का आयोजन किया गया ।  रिपोर्टर सुभाष चंद्र पटेल प्रयागराज

कलयुग की कलम

प्रयागराज नैनी स्थानीय विद्यालय महर्षि विद्या मन्दिर नैनी में दिनांक 14 जुलाई 2021 को महर्षि महेश योगी जी द्वारा प्रणीत भावातीत ध्यान कार्यशाला का आयोजन किया गया । यह कार्यक्रम विद्यालय की प्रधानाचार्या श्रीमती पूजा चन्दोला जी के दिशावलोकन में हुआ , जिसमें विद्यालय के सभी शिक्षक समुदाय उपस्थित रहे । परम पूज्य महर्षि महेश योगी द्वारा प्रणीत ध्यान एक सरल –सहज एवं स्वाभाविक प्रक्रिया है । इसे करने से हमारा मानसिक विकास , शान्ति और स्वास्थ्य में लाभ मिलता है । अतः प्रत्येक व्यक्ति को अपने बहुमुखी विकास को प्राप्त करने के लिए सुबह –शाम नित्य 20 मिनट भावातीत ध्यान करना चाहिए । महर्षि जी ने कहा है कि जनसंख्या का एक प्रतिशत एक स्थान पर सामूहिक रूप से भावातीत ध्यान करने से पूरे समाज में सतोगुण चेतना का विकास होता है । समाज की नकरात्मक शक्तियो का ह्रास होगा और सकारात्मक का विकास होगा ।

महर्षि विद्या मन्दिर नैनी की प्रधानाचार्या श्रीमती पूजा चन्दोला जी ने भावातीत ध्यान के लाभों के विषय में बताते हुए कहा कि विद्यालय में सभी छात्र एवं शिक्षक नियमित रूप से भावातीत ध्यान कर रहे है और उससे लाभान्वित हो रहे हैं । समय की मांग को देखते हुए अब यह चाहिए कि भावातीत ध्यान को जन – जन तक पहुँचाया जाए । जो अभिभावक एवं जनमानस भावातीत ध्यान में रूचि रखते हो वे महर्षि विद्या मन्दिर नैनी में सम्पर्क करें और इस ज्ञान से लाभान्वित हो ।

 

प्रधानाचार्या

श्रीमती पूजा चन्दोला

महर्षि विद्या मन्दिर

नैनी इलाहाबाद

Related Articles

error: Content is protected !!
Close