मध्यप्रदेश

ग्राम पंचायतों में खूब घूम रहा भ्रष्टाचार का पहिया,

कलयुग की कलम

1. ग्राम पंचायतों में खूब घूम रहा भ्रष्टाचार का पहिया, जिससे नाराज बुंदेलखंड किसान यूनियन ने भूख हड़ताल कर, कलेक्टर महोदय से निष्पक्ष जांच की अपील की।

/टीकमगढ़।

२. आपको बता दें कि, ग्राम पंचायत बखतपुरा सहित कई ग्राम पंचायतों में खूब घूमा भ्रष्टाचार का पहिया, प्रदेश सरकार में पिछले चार-पांच सालों में, गांवों में बहुत विकास हुआ। कच्ची सड़कें गायब हो गई और गांव में जनता देखती ही रह गई, विकास हुआ तो भ्रष्टाचार भी खूब हुआ, विकास और भ्रष्टाचार का पहिया साथ- साथ घुमा। भ्रष्टाचार करने में लगातार प्रधानों के अधिकार सीज होते रहे, कई जगह निर्माण कार्य केवल कागजों में ही सिमट कर रह गए, कोरोना काल में भी सफाई के उपकरण मास्क आदि खरीदने के नाम पर बहुत भ्रष्टाचार हुआ और कीमत से कई गुना लागत पर उपकरण खरीदे गए, गरीब जनता आए दिन प्रधानों के खिलाफ सरकारी योजना का लाभ उनके अपात्र रिश्तेदारों या करीबियों को देने के आरोप भी लगते रहे और विकास कार्यों में धांधली होती रही। ऐसा ही मामला टीकमगढ़ जिले की पलेरा तहसील के अंतर्गत ग्राम पंचायत बखतपुरा में भी देखने को मिला है, ग्राम पंचायत बखतपुरा में दिनांक 07/06 /2021 दिन सोमवार की रात्रि करीब 10:00 बजे ग्राम पंचायत बखतपुरा के ग्राम सतवारा के निवासी संतोष पटेल द्वारा बताया गया कि रात्रि के समय सतवारा में ग्राम पंचायत बखतपुरा कीं सरपंच श्रीमती मिथिलेश पटेल, सचिव परमानंद चढ़ार एवं सहायक सचिव देवेंद्र नायक के द्वारा रात्रि के समय स्थान ग्राम सतवारा एवं ग्राम बमोरिया में जेसीबी मशीन के माध्यम से तालाब का कार्य करवाया जा रहा था। इसकी सूचना मिलते ही बुंदेलखंड किसान यूनियन के राष्ट्रीय संगठन मंत्री युवा मोर्चा दिनेश निरंजन ने तत्काल तहसीलदार महोदय को सूचना दी, लेकिन उनके द्वारा रात्रि में यह कह दिया गया कि, इस कार्य के लिए जनपद पंचायत सीईओ से बात करो जब जनपद पंचायत सीईओ एम.एस. मीणा को फोन लगाया तो उनका फोन स्विच ऑफ था। इसके बाद दिनेश कुमार निरंजन के द्वारा थाना प्रभारी सुनील शर्मा से फोन पर इसकी सूचना दी गई, लेकिन प्रशासनिक अधिकारी रात्रि में सतवारा एवं बमोरिया नहीं पहुंचे और लगभग 6 से 7 घंटे जेसीबी मशीनों से कार्य चलता रहा और जैसे ही सुबह हुआ, तो तुरंत जेसीबी मशीने वहां से भाग गई। लेकिन वहां के कुछ ग्राम वासियों के द्वारा सुबह से उस स्थान पर जाकर उस जगह के वीडियो फुटेज अपने कैमरे में कैद कर लिए और यही फुटेज तहसीलदार महोदय को बताएं, इसी दौरान बुंदेलखंड किसान यूनियन द्वारा ग्राम पंचायत में जेसीबी से कार्य किए जाने के संबंध में 14/06/ 2021 को तहसीलदार महोदय को कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपा। जिसमें कहा गया था, कि कलेक्टर महोदय अपनी एक टीम गठित कर ग्राम पंचायत बखतपुरा वाले मामले की जांच करेंगे एवं भ्रष्टाचार में लिप्त लोगों पर कार्यवाही करेंगे, लेकिन जब जांच हुई तो, जिस जगह मशीनो से कार्य किया गया था उस जगह जांच ना करके अन्य जगह की जांच की गई और सिर्फ और सिर्फ जांच करने का एक बहाना ही बन गया की जांच हुई है। पलेरा ब्लॉक के प्रशासनिक अधिकारियों के द्वारा सही जांच नहीं की गई और ना ही भ्रष्टाचार में लिप्त लोगों पर कार्यवाही हुई, आज सही जांच ना होने से नाराज बुंदेलखंड किसान यूनियन के पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने भूख हड़ताल कर दी। संगठन के मंत्री दिनेश निरंजन का कहना है की जब तक जांच सही नहीं हो जाती है तब तक हमारी भूख हड़ताल जारी रहेगी और कहां कि आखिर शिकायत की जाए तो किससे की जाए, जिम्मेदारों से तो भरोसा ही टूटता जा रहा है। क्योंकि भ्रष्टाचार में लिप्त कर्मचारी अपनी ही जांच सही कैसे कर पाएंगे।

 

Related Articles

error: Content is protected !!
Close