मध्यप्रदेश

रतलाम के प्रधान आरक्षक बलराम पाटीदार को पुलिस महानिदेशक प्रशस्ति पत्र व डिस्क से सम्मानित

कलयुग की कलम रतलाम

रतलाम के प्रधान आरक्षक बलराम पाटीदार को पुलिस महानिदेशक प्रशस्ति पत्र व डिस्क से सम्मानित

कलयुग की कलम

रतलाम मध्यप्रदेश ब्यूरो रिपोर्ट: किसी भी संस्थान के लिए ऐसे लोग धरोहर होते हैं जो जीवन पर्यंत कर्तव्य परायणता,समर्पण और निष्ठा के साथ अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते हैं। यह सिलसिला कुछ दिन या कुछ सप्ताह नहीं बल्कि पूरे 23 साल पाँच महीने तक निर्बाध रूप से चलता रहे हैं तो वह व्यक्ति निःसंदेह सम्मान का हक़दार होता है। हम यहाँ चर्चा कर रहे हैं रतलाम पुलिस अधीक्षक कार्यालय में तैनात प्रधान आरक्षक बलराम पाटीदार की। प्रधान आरक्षक बलराम पाटीदार को आज पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी ने पुलिस महानिदेशक प्रशस्ति पत्र व डिस्क से सम्मानित किया है। बलराम द्वारा किए गए गुड वर्क की एक लंबी फ़ेहरिस्त है।अपने सेवाकाल मे इन्हें 198 इनाम एवं 10 प्रशंसा पत्र प्राप्त हुए हैं और इनकी अब तक एक भी शिकायत नहीं हुई है।

सेवा के प्रकल्प को पूर्ण कर बलराम ने कई प्रकार की उपलब्धियों से विभाग को अपनी सेवाएं प्रदान कर पुलिस विभाग का नाम रोशन किया।

राज्य अपराध अभिलेख ब्यूरो,भोपाल द्वारा प्रधान आरक्षक बलराम का चयन कर सीडेक इंदौर मे प्रशिक्षण एक माह का कम्प्यूटर कोर्स करवाया गया जिसमे प्रधान आरक्षक को प्रदेश स्तर पर ए ग्रेड प्राप्त हुई व बैच में प्रथम स्थान प्राप्त किया । जिसके फलस्वरूप राज्य अपराध अभिलेख ब्यूरो, पुलिस मुख्यालय,भोपाल द्वारा पुनः इन्हें चयनित करके हार्डवेयर प्रशिक्षण कोर्स कराया गया।

कई अपराधों पर जी-जान से जुटकर अपराधियों की नकेल कसी

जिला रतलाम मे थाना माणकचौक रतलाम के प्रतिष्ठित व्यापारी के पोते का अपहरण होने पर 7 घण्टे के अंदर अपहृत बालक को बरामद करवाने मे मुख्य भूमिका हेतु पुलिस महानिरीक्षक, उज्जैन द्वारा 1000/- रूपये नगद पारितोषिक दिया गया। इसी प्रकार सिमी के सक्रिय सदस्य जाकिर हुसैन एवं मोहम्मद फरहत निवासी खण्डवा की गिरफ्तारी में सक्रिय भूमिका निभाने पर भी पुलिस महानिरीक्षक, उज्जैन जोन द्वारा 500/- रूपये नगद पुरस्कार से भी पुरस्कृत किया गया। इनके द्वारा थाना माणकचौक के सनसनीखेज सुरज गवली हत्याकाण्ड,थाना माणकचौक के ही सनसनीखेज तरूण सांकला हत्याकांड,बांछडा गैंग द्वारा की गई 41 लूट, नकबजनी, चोरी में पतारसी एवं बरामदगी में सक्रिय सहयोग करने,थाना स्टेशन रोड के बलात्कार व पास्को एक्ट में फरार 2500-2500/- रूपये के उद्घोषित आरोपियों को पकड़वाने में मुख्य भूमिका एवं साइबर सेल में कार्य करते हुए जिले में अपहृत बालक बालिका की बरामदगी में सक्रिय सहयोग करने के लिये बार-बार नगद राशि से वरिष्ठ कार्यालयों से पुरस्कार प्राप्त किये गये एवं साइबर सेल में रहते हुए करीब 30 लाख के गुम मोबाइल को खोज कर फरियादियों तक पहुँचने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। जिला रतलाम में बहुचर्चित हिम्मत पाटीदार हत्याकांड व दिलीप देवल एनकाउंटर केस में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही। बलराम द्वारा पुलिस विभाग में मानव संसाधन तैयार करने हेतु टीम सदस्यों को भी प्रशिक्षित किया। आरक्षक बलराम ने स्वयं की कार्यकुशलता बढ़ाने के लिये लगातार स्वयं को विभिन्न प्रशिक्षणों के माध्यम से निरन्तर अद्यतन रखकर कर्तव्य के प्रति लगन एवं रूचि दिखाई है। 23 वर्ष 5 माह के सेवाकाल में आज तक कोई शिकायत प्राप्त नहीं हुई। बलराम के सेवाकाल में कोई गैरहाजिरी/सिक लीव नहीं है, जो कि इनके अनुशासन का परिचायक है। कुल मिलाकर प्रधान आरक्षक का अब तक का सेवाकाल सर्वोत्तम रहा है। मध्यप्रदेश पुलिस द्वारा प्रधान आरक्षक बलराम पाटीदार को उनकी उत्कृष्ठ सेवाओं के लिए पुलिस महानिदेशक प्रशस्ति पत्र व डिस्क से सम्मानित किया गया है जिसे आज दिनांक 31-5-21 को रतलाम पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी द्वारा सम्मान समारोह आयोजित कर प्रधान आरक्षक को प्रशस्ति पत्र व डिस्क प्रदान कर सम्मानित किया गया।

Related Articles

error: Content is protected !!
Close