मध्यप्रदेश

सिलौंड़ी में चोरों का आतंक,पुलिस का रवैया निराशाजनक, बल की कमी

कलयुग की कलम

सिलौंड़ी में चोरों का आतंक,पुलिस का रवैया निराशाजनक, बल की कमी

कलयुग की कलम

कटनी/सिलौंड़ी:- क्षेत्र में लगातार चोरियां बढ़ती जा रही है लेकिन उनका सुराग नहीं लग पा रहा है जिससे चोरों के हौसले बुलंद हैं।

अभी हाल ही में नगर के हृदय स्थल बाजार चौराहे से मोटरसाइकिल पार कर दी गई जिसका अभी तक कोई सुराग नहीं लग पाया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार नगर के हृदय स्थल बाजार चौराहे से हीरो होंडा कंपनी की स्प्लेंडर प्लस MP20 ML 4673 चोरी हो गयी।

बाज़ार से चोरी होना बड़ी बात

वैसे तो सिलौंड़ी क्षेत्र में आए दिन चोरी होना सामान्य बात है जो कागजों में भी कहीं दर्ज नहीं हो पाती है लेकिन सबसे व्यस्ततम इलाका *बाजार* से मोटरसाइकिल जैसी चीज चोरी हो जाना सामान्य बात नहीं है।

यह कहीं ना कहीं चोरों के बुलंद हौसले का प्रमाण है।

न पकड़े तो बढ़ेंगी वारदातें

लोगों की नाक के नीचे से मोटरसाइकिल पार कर जाना और उसके बाद भी चोरों को नहीं पकड़ा जाता तो उनकी हिम्मत तो बढ़ेगी साथ ही आने वाले समय में ऐसी वारदातें बढ़ जाएंगी जिससे आमजन असुरक्षित महसूस करेंगे।

रात भर रेत का खेल

प्रशासन की सुसुप्तता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि रात भर अवैध रेत खनन और परिवहन होता है।

जिसमें शामिल लोगों की भूमिका को भी नकारा नहीं जा सकता है।

नगर में पूरी रात रहते हैं बाहरी लोग

रात में रेत माफिया बाहरी मजदूरों से काम कराते हैं। जगह-जगह पड़े रेत के ढेरों को रात में ही भराकर जगह-जगह पहुंचाया जाता है,जिसमें बड़ी संख्या में *बाहरी लेबर* की उपस्थिति भी नगर में रहती है यह भी चिंतनीय विषय है👈

चोर चोर मौसेरे भाई

वैसे तो रात भर रेत चोर अपनी गतिविधियों में संलिप्त रहते हैं लेकिन कहीं ना कहीं इस तरह की घरों में और वाहन चोरी करने वालों का गठजोड़ ना हो गया हो अन्यथा क्षेत्र में कोलाहल मच जाएगा ऐसी आशंका हर किसी के मन में है।

चोर पकड़ में आना चाहिए

घटना की जानकारी देते हुए वाहन मालिक ने बताया कि दशकों से वाहन वहीं खड़े होते आए हैं लेकिन आज यह पहला ऐसा मौका आया है कि जब बाजार से चोरी हुई है जो कि चिंताजनक है यदि यह चोरी नहीं पकड़ी गई तो आने वाले दिनों में घटनाएं बढ़ जाएंगी।

वाहन भले न मिले चोर की पहचान हो

 वाहन मालिक ने कहा कि उन्हें वाहन भले न सौंपा जाए लेकिन चोर की पहचान की जाए ताकि आने वाली चोरियों पर लगाम लग सके और उसके पीछे जो गिरोह है उन तत्वों की भी पहचान हो सके।

अब नहीं होती गश्ती, पुलिसकर्मियों की कमी

किसी जमाने में पुलिस प्रशासन रात में गलती कर आता था जिससे इस तरह की वारदातों पर कुछ हद तक अंकुश लगा रहता था लेकिन अब तो पुलिस की गश्ती बीते जमाने की बात हो गई है हालांकि इसका एक बड़ा कारण सिलौंड़ी उपथाने में पुलिस बल की कमी भी है।

मिल जाएगी तो पकड़ लेंगे

इस विषय में जब उपथाना प्रभारी श्री राम बोध मिश्रा से चर्चा की गई तो उन्होंने कहा कि जब गाड़ी मिल जाएगी तो उसको पकड़ लेंगे👈

पुलिस प्रशासन की इस प्रतिक्रिया से ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि चोरी की वारदातों को लेकर वे कितने गंभीर हैं।

Related Articles

error: Content is protected !!
Close