UNCATEGORIZED

पत्रकारिता दिवस पर जमीरियत पत्रकारों को हार्दिक बधाई – अनन्त शुभकामनाएं

कलयुग की कलम

पत्रकारिता दिवस पर जमीरियत पत्रकारों को हार्दिक बधाई – अनन्त शुभकामनाएं

वर्तमान दौर में जब सच्ची खबरों को तमाशे की तरह पेश किया जा रहा हो । खबरों का छपने के पहले बिकना जरूरी हो गया हो । असल खबरों की हालत दासी जैसी बनाकर रख दी गई हो । निष्पक्ष पत्रकारिता का दंश प्रताड़ना और एकांतवास बना दिया गया हो । सत्ता को बेचैन करने वाली खबरों पर देशद्रोही, समाजविरोधी का टैग टांग दिया जाता हो । विश्वसनीय पत्रकारिता के सैद्धान्तिक पंचाक्षरी मन्त्र (पांच डब्ल्यू W) {What (क्या), When (कब), Why (क्यों), Where (कहां), Who (कौन)} के साथ ही {How (कैसे)} को बिसरा कर अपने ज़मीर को गिरबी रखकर पत्रकारिता को विशुद्ध दरबारी बना चुके पत्रकारों की भीड़ भरी भेड़ चाल के बावजूद सत्ता को बेचैन करने वाली, सत्ता की चूलें हिला देने वाली असल, विश्वसनीय खबरें आमजन तक पहुंचा कर पत्रकारिता को साख के साथ जिंदा रखने वाले ऐसे पत्रकारों की उपस्थिति को साधुवाद तो बनता ही है । खासतौर पर तब जब सरकार निष्पक्ष पत्रकारिता का गला घोंटने के लिए हर संभव प्रयास कर रही हो और समाज भी पत्रकारिता के लिए धृतराष्ट्र की भूमिका में दिखाई दे रहा हो ।

 

अश्वनी बड़गैंया, अधिवक्ता

स्वतंत्र पत्रकार

Related Articles

error: Content is protected !!
Close