उत्तरप्रदेश

सेवार्थ ज्ञानार्थी हितार्थ समर्पित हरि ॐ जन सेवा समिति राजस्थान रिपोर्टर सुभाष चंद्र पटेल प्रयागराज

कलयुग की कलम

राजेन्द्र सदानन्द महाराज का मूलमंत्र है नर सेवा नारायण सेवा।

प्रतिवर्ष आदर्श सामूहिक विवाह का होता है आयोजन।

जयपुर सेवा को ही वास्तविक साधना मानकर अनवरत जरूरतमंदों को भोजन वितरित कराने तथा गऊ माता की सेवा को समर्पित राजेन्द्र सदानन्द महाराज आज जयपुर सहित पूरे भारत में सेवा, समर्पण व सद्भाव के प्रेरणा स्रोत बन गए हैं।

जानकारी के अनुसार हरि ॐ जन सेवा समिति के संस्थापक राजेन्द्र सदानन्द महाराज तथा उनके साथी विगत कई वर्ष से प्रतिदिन जरूरतमंद लोगों को दिन में भोजन व गायों को चारा उपलब्ध कराते रहे हैं। हरि ॐ जन सेवा समिति प्रतिवर्ष आदर्श सामूहिक विवाह का आयोजन करती हैं जिसमें अनेकों नव दम्पत्ति हिन्दू रीति रिवाज के अनुसार वैवाहिक बन्धन में बंधते हैं।

बता दें कि हरि ऊँ जन सेवा समिति राजस्थान के द्वारा मां अन्नपूर्णा भंडारा विगत 23 अगस्त 2017 से प्रतिदिन वी के आई सीकर रोड पर हजारों जरूरतमंदो को भोजन कराया जा रहा है और जगदीश महाराज गोनेर मै भी निरन्तर मां अन्नपूर्णा का भंडारा चलता है। अभी कोरोना संकटकाल के दौरान लॉकडाऊन में हजारो जरूरतमंद भोजन ले रहे हैं।

विशेष बात यह है कि समिति के कार्यकर्ता स्वयं ही भोजन बना रहे हैं और पक्षियों, गौमाताओं, जरूरतमंदो की सेवा कर रहै हैं। समिति के संरक्षक संस्थापक राजेन्द्र सदानन्द महाराज ने बताया कि श्रीराम जी की कृपा, दानदाताओं भामाशाह का सहयोग और निस्वार्थ सेवा भावी कार्यकर्ता सूर्य प्रकाश जोशी, पंकज गोयल, सरदार रणजीत सिंह, राजु बस्सी, मुकेश जोशी, सुरेश जांगिड, नरेन्द्र सिंह शेखावत, मुकेश जिन्दल, विरेन्द पारीक, विकास जांगिड, नेमिचन्द जांगिड आदि कार्यकर्ता निरन्तर अपनी सेवाएं दे रहे हैं। हरि ऊँ जन सेवा समिति द्वारा संचालित हरि ऊँ गौशाला शुभराम पुरा खोरा बिसल रोजदा रोड जयपुर मै जहा अंधी गो मां भी है व अन्य गोशालाओ में भी हरा चारा सब्जियां भी पहुचा रहे है।

समिति के स्वयंसेवक जयपुर में जगह-जगह खाना भी पहुंचा रहे हैं और सूखा राशन भी दे रहे हैं जबकि गोनेर मै ब्रजमोहन जी बुसर, राजु जी बुसर निरन्तर अपनी सेवाये दे रहे हैं। हरि ऊँ जन सेवा समिति लोक जन कल्याणार्थ के लिए बहुत से सेवा कार्य करती है इस सेवाकार्य के सम्बन्ध में बात करते हुए राजेन्द्र सदानन्द महाराज कहते हैं कि यह सारा कार्य प्रभु श्रीराम जी की कृपा से हो रहा है।

Related Articles

error: Content is protected !!
Close