मध्यप्रदेश

महान नहीं, बदनाम है भारत : कमलनाथ

कलयुग की कलम

महान नहीं, बदनाम है भारत : कमलनाथ

सतना, (ओपी तीसरे)। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि भारत महान नहीं, बदनाम भारत है। हालत ये है कि विदेशों में अब भारतीय ड्राइवरों की टैक्सी में कोई बैठने को तैयार नहीं है। इस स्थिति के लिए पीएम मोदी और उनकी केंद्र सरकार जिम्मेदार है। मोदी की सरकार को केंद्र में 7 साल 30 मई को पूरे हो रहे हैं। उन्हें जवाब देना चाहिए, बताना चाहिए कि क्या देश नारों पर ही चलेगा ? क्या हुआ रोजगार का ? कहां पहुंची महंगाई ?
मैहर पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में भाजपा और भाजपाइयों पर खुला आरोप लगाते हुए कहा कि मध्य प्रदेश में अब एक नया माफिया ‘कोविड माफिया’ खड़ा हुआ है। मैने माफिया के खिलाफ शुद्ध का युद्ध अभियान चलाया था, लेकिन अब भाजपा नेता वेंटिलेटर, बेड, इंजेक्शन बेच रहे हैं। जिस गड्ढे में प्रदेश धकेला जा रहा है उससे निकलना बहुत बड़ी चुनौती है। एमपी की 70 फीसदी अर्थ व्यवस्था कृषि आधारित है, लेकिन स्थिति ये है कि मिडिल क्लास नीचे घसीटा जा रहा है और लोवर क्लास गरीब और गरीब क्लास भिखारी बन रहा है।कमलनाथ ने कहा कोरोना से जो महामारी के हालात बने हैं उसके लिए केंद्र और राज्य सरकार जिम्मेदार हैं। सेकेंड वेव की जानकारी महीनों से थी, लेकिन किसी तरह की तैयारी नहीं की गई। वैक्सीन के डोज को लेकर चुनावों के कारण घोषणा तो कर दी गई, लेकिन वैक्सीन का कहीं पता नहीं है। अब कहते हैं ग्लोबल टेंडर कराएंगे। पीसीसी चीफ ने कहा कि इनसे प्रश्न पूछे, तो जबाब में कहते हैं कि देश द्रोही हैं। सच दिखाओ तो एफआईआर दर्ज कराते हैं। नाथ ने सवाल उठाया कि शिवराज क्यों नहीं सारे आंकड़े जनता के सामने रखते ? क्यों नहीं बताते कि कितनों को टीका लगा ? अगर वो सॉफ्टवेयर नहीं बना पाए रहे, तो मैं बनवाने को तैयार हूं।
कमलनाथ ने कहा कि भाजपा धर्म की ठेकेदार नहीं है। धार्मिक हम भी हैं, लेकिन हम शो नहीं करते। उन्होंने कहा मैं कहीं भी धार्मिक स्थल जाता हूं, तो भाजपा के पेट मे दर्द होता है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में डेढ़ लाख लोगों की मौत हुई है, जिनमें से 70 फीसदी कोविड से मरे हैं। नाथ ने कहा कि नकली इंजेक्शनों के कारण जिनकी मौतें हुई हैं, उन सबको 5 लाख रुपये मुआवजा दिया जाना चाहिए। मैं इसके लिए एक एफिडेविट बनवा रहा हूं। सरकार उस एफिडेविट के आधार पर मृतकों के परिजनों को क्षतिपूर्ति दे।
प्रदेश कांग्रेस प्रमुख कमलनाथ अल्प प्रवास पर शुक्रवार को मैहर पहुंचे। कोरोना संक्रमण और कर्फ्यू के कारण मंदिर बंद था। लिहाजा उन्होंने देवी मंदिर जाने वाली सीढ़ियों के पास बने प्रवेश द्वार पर ही पूजा अर्चना की और मत्था टेक कर माता का आशीर्वाद लिया। तमाम पाबंदियों और निर्देशों के बावजूद पीसीसी चीफ कमलनाथ के मैहर आगमन पर उनके स्वागत के लिए हेलीपैड और मंदिर परिसर में कार्यकर्ताओ की भीड़ उमड़ी।

Related Articles

error: Content is protected !!
Close