मध्यप्रदेश

सिटी अस्पताल संचालक सहित दो पर शुरू हुई एनएसए की कार्रवाई “कलयुग की कलम{ जबलपुर }

कलयुग की कलम

सिटी अस्पताल संचालक सहित दो पर शुरू हुई एनएसए की कार्रवाई

कलयुग की कलम”जबलपुर “

नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन मामले में एसपी के निर्देश पर सिटी अस्पताल के डायरेक्टर सरबजीत सिंह मोखा और वहां दवा की दुकान में काम करने वाले देवेश चौरसिया को पुलिस ने एनएसए के तहत वारंट जारी कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है

गुजरात से लायी गई थी इंजेक्शन की खेप

दरअसल, कुछ दिन पहले गुजरात के मोरवी जिले की पुलिस ने भगवती फार्मा के संचालक सपन जैन को नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचने के मामले में गिरफ्तार कर उसे अपने साथ गुजरात ले गई थी. सपन जैन के भाई सत्यम जैन और देवेश चौरसिया सिटी अस्पताल मे दवा सप्लाई का काम देखते हैं. पुलिस ने मामले में देवेश चौरसिया को गिरफ्तार कर लिया है और सघन पूछताछ में जुट गई है

दो कार्टून में जबलपुर आए थे इंजेक्शन

पुलिस पूछताछ में पाया गया कि 23 अप्रैल एवं 28 अप्रैल को बस के माध्यम से इंदौर से रेमडेसिविर इंजेक्शन के दो कार्टून जबलपुर आये थे. सरबजीत सिंह मोखा के कहे अनुसार देवेश चौरसिया उन्हें लेने के लिये गया था. कार्टून लेने के बाद देवेश चौरसिया ने सिटी अस्पताल लाकर सरबजीत सिंह मोखा के कक्ष में रख दिया था. दवाओं का भुगतान सपन जैन ने किया. इस सबंध में सिटी अस्पताल के पास कोई रिकॉर्ड नहीं था

गौरतलब है कि थाना बी डिवीजन जिला मोरवी गुजरात पुलिस ने नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन की फैक्ट्री से इंजेक्शन जब्त किये थे. उसी फैक्ट्री मैं बने नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन इंदौर से ट्रांसपोर्ट के माध्यम से सिटी अस्पताल जबलपुर पहुंचे

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close