मध्यप्रदेश

उमरियापान में एक साथ उठीं 3 अर्थियां, शोक में डूबा नगर 

कलयुग की कलम

उमरियापान में एक साथ उठीं 3 अर्थियां, शोक में डूबा नगर

कटनी, (कलयुग की कलम)। रविवार का दिन उमरियापान के लिए दुःखद भरा रहा। यहां एक ही मोहल्ले से एक के बाद एक करके लगातार उठीं 3 लोगों की अर्थियों ने क्षेत्र के माहौल को पूरी तरह से गमगीन कर दिया।

उमरियापान के कांग्रेस नेता मौजीलाल पौराणिक के बुखार से पीड़ित छोटे पुत्र अखिलेश उर्फ अख्कू की रविवार की सुबह अचानक तबियत बिगड़ी। सांस लेने में आ रही दिक्कत के चलते आनन-फानन परिजन अखिलेश को लेकर जबलपुर के आशीष हॉस्पिटल पहुचे, जहां चिकित्सकों ने उनकी हालत को देखते हुए एडमिट करने से इंकार कर दिया। यहां से मिली निराशा के तत्काल बाद परिजनों द्वारा नैशनल हॉस्पिटल ले जाते वक्त मरीज की दोपहर लगभग 12 से 1 बजे के बीच रास्ते में मौत हो गई। परिजनों के मुताबिक यदि आशीष हॉस्पिटल के चिकित्सक मरीज को एडमिट कर लेते तो संभवतः उसकी जिंदगी को बच जाती।

उधर परिजन अखिलेश के शव के घर पहुंचने का इंतजार कर ही रहे थे, इसी बीच उमरियापान के ही दीपू टेंट वाले के 48 वर्षीय पिताश्री सुरेंद्र बर्मन का हृदयगति रूकने से निधन हो गया। बताया जाता है कि अचानक तबियत बिगड़ने पर परिजन दीपू के पिता को लेकर उपचार कराने ढीमरखेड़ा के एक झोलाछाप चिकित्सक के यहां पहुंचे, जहां चिकित्सक ने मरीज को इंजेक्शन का एक डोज दिया। इस इंजेक्शन के लगने के लगभग 10 मिनट बाद घर आने पर उनकी सांसे टूट गईं। इसी तरह पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहीं लखन बैंड बाजा वाले की 75 वर्षीय माताश्री कुसुम बाई के निधन होने की खबर सामने आ गई। कुल मिलाकर नगर में एक ही मोहल्ले से एक साथ उठीं 3 अर्थियों ने लोगों के दिल को झकझोर कर रख दिया।

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close