मध्यप्रदेश

कानपुर के दो सगे भाई चित्रकूट में मंदाकिनी नदी में डूबे,मौत 

कलयुग की कलम

कानपुर के दो सगे भाई चित्रकूट में मंदाकिनी नदी में डूबे,मौत

कोरोना कर्फ्यू के बीच चित्रकूट में मंदाकिनी नदी में स्नान करने आए दो युवक आज सुबह डूब गए। इससे दोनों युवकों की मौत हो गई

KKK न्यूज { सतना }

कोरोना कर्फ्यू के बीच चित्रकूट में मंदाकिनी नदी में स्नान करने आए दो युवक आज सुबह डूब गए। इससे दोनों युवकों की मौत हो गई। मंदाकिनी नदी में डूबने वाले दोनों युवक कानपुर के नौबस्ता के हैं। जैसे ही युवक मंदाकिनी में डूबे लोगों ने नयागांव पुलिस को सूचित किया। हादसा आज सुबह 7.30 बजे राघव प्रयाग घाट का बताया जा रहा है। नयागांव थाना पुलिस ने स्थानीय गोताखोरों की मदद से दोनों युवकों के शव को निकाल लिया है और शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पुलिस को युवकों के कपड़ों से आधार कार्ड मिला है जिसमें मृतक युवक सगे भाई बताए गए हैं जिनके स्वजनों को सूचना दे दी गई है। युवकों की पहचान की 24 वर्षीय हिमांशु तिवारी व 22 वर्षीय दीपांशु तिवारी पिता प्रकाश तिवारी निवासी नौबस्ता जिला कानपुर उत्तरप्रदेश के रूप में हुई गई

डिजायर कार से आए थे दोनों भाई: बताया जा रहा है कि दोनों भाई कानपुर से चार पहिया डिजायर वाहन क्रमांक यूपी 78 ईटी 9483 लेकर चित्रकूट पहुंचे थे। जहां हनुमान मंदिर के पास कार खड़ी कर दोनों युवक राघव घाट स्नान करने पहुंचे।पुलिस को स्थानीय नाविकों ने बताया कि यहां मंदाकिनी नदी में अधिक गहराई है।जब एक भाई नहाने नदी में उतरा तो वह तुरंत गहराई में चला गया और डूबने लगा।इसे देखकर दूसरा भाई भी बचाने गहराई में चला गया जहां दोनों भाइयों की डूबकर मौत हो गई

कोरोना कर्फ्यू में भी चोरी चुपके पहुंच रहे श्रद्धालु

सतना जिले में कोरोना कर्फ्यू लागू है इसके साथ यूपी के क्षेत्र में भी लॉकडाउन लागू है चित्रकूट ऐसा क्षेत्र है जहां आधा उत्तर प्रदेश और आधा मध्य प्रदेश का इलाका आता है इन दिनों दोनों ही इलाकों में कोरोना कर्फ्यू और लॉकडाउन लागू है बताया जा रहा है कि उत्तरप्रदेश के क्षेत्र में जहां सख्ती कम है तो मध्यप्रदेश के क्षेत्र में अधिक कड़ाई है और पुलिस का सख्त पहरा है इसके कारण चित्रकूट के रामघाट मंदाकिनी सहित अन्य धार्मिक स्थलों में पूरी तरह श्रद्धालुओं का जाना प्रतिबंधित किया गया है इसके बावजूद चार पहिया दो पहिया से लोग घूमने पहुंच रहे हैं।आज हुए हादसे ने यह साबित कर दिया है कि इतनी कढ़ाई के बावजूद पुलिस से आंख बचाकर श्रद्धालु खुलेआम धार्मिक स्थलों में पहुंच रहे हैं और कोरोना गाइडलाइन का खुला उल्लंघन किया जा रहा है

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close