UNCATEGORIZED

वाराणसी: से बहुत ही दुःखद तस्वीर

कलयुग की कलम

वाराणसी: से बहुत ही दुःखद तस्वीर

कोरोना का आया, इंसान इंसान से नफरत करने लगा, और दूर भागने लगा, मानवता और इंसानियत तो जैसे खत्म ही हो गई हो…

जी हाँ बात वाराणसी कि, जो देश के प्रधानमंत्री मोदी का संसदीय क्षेत्र भी है, वही वाराणसी जिसे क्योटो बनाने की बात कही गयी थी,

उसी वाराणसी में एक ऐसी मां जिसको अपने बेटे की लाश को ले जाने के लिए एक एम्बुलेंस वाहन तक नसीब नहीं हुआ,

और बेबस मजबूर वह दुखियारी माँ अपने जिगर के टुकड़े को उसे एक ऑटो रिक्शा में इस तरह ले जाना पड़ा कि देखकर मानवता शर्मसार हो गई,

यह देखकर बदन में सिहरन और मन में सवालों का अम्बार उठ खड़ा हो गया…?

ये हृदय को झकझोर देने वाली तस्वीर बाबा भोलेनाथ की नगरी काशी की है, तस्वीर किसी को भी झकझोर सकती है,

लेकिन सिस्टम में बैठे बाबू हैं.. उन्हे कुछ शायद दिखता नहीं, या वो देख नहीं सकते हैं,

वाराणसी की ये एक ऐसी तस्वीर जो मानवता को शर्मसार कर देने वाली है, और सिस्टम की असलियत को बयां करती है,

जानकारी के अनुसार.. वाराणसी के BHU के सुंदरलाल चिकित्सालय में बुजुर्ग मां अपने बेटे की किडनी की समस्या के इलाज के लिए पहुंची थी, लेकिन वक्त पर इलाज नहीं हो पाया, तो जवान बेटे की मौत हो गई, मौत के बाद एम्बुलेंस नहीं मिली, बेबस दुःखी माँ को ना कोई एम्बूलेंस मिली, ना कोई भगवान व इंसान काम आया, और शव को इस प्रकार पैरों के पास रखकर ई रिक्शा में ले जाना पड़ा, यह दृश्य देखकर मन बहुत दुखी है, बहुत ही निंदनीय है, अस्पताल य सरकार को शर्म तो आती नहीं..

भगवान से यही प्रार्थना करूँगा कि हे भगवान ऎसे दुःख किसी भी इंसान को ना दें l

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close