मध्यप्रदेश

मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर ई मेल से महत्वपूर्ण सुझाव कोविड संक्रमण नियंत्रण को लेकर दिये कॉंग्रेस के प्रदेशसचिव राकेश सिंह यादव ने।

कलयुग की कलम

मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर ई मेल से महत्वपूर्ण सुझाव कोविड संक्रमण नियंत्रण को लेकर दिये कॉंग्रेस के प्रदेशसचिव राकेश सिंह यादव ने।

प्रति,

श्रीमान मुख्यमंत्री महोदय

मुख्यमंत्री कार्यालय,

वल्लभ भवन,

भोपाल

सादरवन्दे,

विनम्र निवेदन हैं की कोविड की गंभीर परिस्थितियों को देखते हुए कृपया निम्न सुझावों पर विचार करके तत्काल लागू करेंगे तो जनता एंव सरकार तथा प्रशासन को राहत मिलेगी ।

(1) समस्त इंजेक्शन एंव दवाईयों के लिए प्रत्येक नगरनिगम झोन पर हेल्प डेस्क एंव हेल्पलाइन नम्बर देकर दवाईयॉं व इंजेक्शन हॉस्पिटलों में आवश्यकता अनुसार उपलब्ध कराये जाये एंव आम आदमी भी अपनी दवा की आवश्यकता दर्ज करा सके।यह इंतज़ाम तत्काल किया जाना चाहिए ।

(2) लॉकडाउन करने या लॉकडाउन की समय सीमा बढ़ाने से कोविड संक्रमण नियंत्रित नहीं हो रहा हैं।इस हेतु नया प्लान किया जाये।जिसके अन्तर्गत प्रत्येक शहर को छह भागों में विभाजित करके बेरिकेटस करके इन सभी इलाक़ों को पूर्ण रूप से खोल दिया जाये एंव मास्क सहित सोशल डिस्टेंस का पालन कड़ाई से सुनिश्चित किया जाये।इन छह इलाक़ों के रहवासी आगामी एक माह तक शहर के दूसरे भागों में नहीं जा सकेंगे।इसका प्रमुख फ़ायदा रहेगा की कम्यूनिटी स्प्राइड रूकेगा एंव सरकार तथा प्रशासन को इलाक़ा सील करने में आसानी रहेगी एंव जनता को भी परेशानी नहीं होगी एंव व्यापार -व्यवसाय भी चलता रहेगा।यह भी स्पष्ट होगा की कौन से इलाक़े में ज़्यादा संक्रमित हैं।योजनाबद्ध तरीक़े से लागू करने पर परिणाम सार्थक आयेंगे ।

(3) कोविड केयर सेन्टर के लिए सरकार नीतिगत फ़ैसला करें जिससे सरकार का आर्थिक नुक़सान भी बचेगा।म.प्र.के समस्त कॉलेज,स्कूलों को कोविड केयर सेन्टर में बदला जाये।यहॉं रूम ,बिजली,पानी सब कुछ सुविधाएँ हैं।सिर्फ़ पलंग लगाकर कोविड केयर सेन्टर तैयार हो जाएगा।केम्पस भी सुरक्षित हैं।संक्रमण फैलने का ख़तरा भी कम होगा।उदाहरण के तौर पर इन्दौर में आर्ट एंड कॉमर्स कॉंलेज,गुजराती कॉंलेज,होलकर कॉंलेज,डेली कॉलेज,सत्यसांई स्कूल,सिका स्कूल,प्रेस्टीज कॉंलेज आदि अनेक स्थान शहर के मध्य स्थित हैं।इनका उपयोग तत्काल किया जा सकता हैं।सरकार विचार करके आदेश जारी करे।

(4) अंतिम संस्कार हेतु मुक्तिघामों की व्यवस्था चरमरा गयी हैं।सभी शहरों में शहर के बाहर अस्थायी अंतिम संस्कार स्थल बनाकर कोविड शवों का अंतिम संस्कार किया जाना चाहिए ।कोविड शवों का अंतिम संस्कार शहर के मुक्तिधामों में प्रतिबंधित किया जाना चाहिए ।कोविड शव का अंतिम संस्कार कोविड नियमों के अन्तर्गत होता हैं।एम्बुलेंस द्वारा शव बॉक्स में ही अंतिम संस्कार किया जाता हैं।ऐसे में अस्थायी श्मशान की व्यवस्था नगरनिगम के माध्यम से करके शवों के दाहसंस्कार की लकड़ियों एंव कंडों सहित व्यवस्था सरकार को निःशुल्क करना चाहिए एंव एम्बुलेंस से कोविड शव अंतिम संस्कार स्थल तक ले जाने की व्यवस्था भी निःशुल्क की जाये।जनता को राहत मिल सके एंव शवों से कोरोना संक्रमण फैलने का ख़तरा भी कम हो सके।

(5) प्रत्येक कोविड हॉस्पिटलों में ज़िला प्रशासन की हेल्प डेस्क बनाकर तहसीलदार स्तर के अधिकारियों की नियुक्ति की जाये।जिससे की हॉस्पिटलों में बेड आक्सीजन एंव इंजेक्शन को लेकर अफ़रा तफ़री की स्थिति को कंट्रोल किया जा सके।संबंधित हेल्प डेस्क मरीज़ की स्थिति के अनुरूप बेड उपलब्ध कराने में मदद करेगी।इससे हॉस्पिटलों की कालाबाज़ारी पर भी अंकुश लगेगा।जनता को बहुत राहत मिलेगी ।

 

कृपया इन पॉंचों सुझावों पर जनहित में तत्काल निर्णय लेकर अनुग्रहित करें।

 

राकेश सिंह यादव

प्रदेशसचिव

म.प्र.कॉंग्रेस कमेटी

भोपाल

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close