मध्यप्रदेश

दूसरे आरोपी को आसमान निगल गया या धरती ?* 

कलयुग की कलम

दूसरे आरोपी को आसमान निगल गया या धरती ?

सतना जीआरपी की कार्यवाही पर उठी उंगलियां

55 लाख के सोना, 7 हजार की चाँदी व 5 लाख 32 हजार की नगदी की जप्ती का मामला

सतना, (ओपी तीसरे)। रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म में चेकिंग के दौरान 55 लाख कीमती सोना सहित 5 लाख 32 हजार रुपए की नगदी के साथ जीआरपी पुलिस टीम के हत्थे चढ़े दो आरोपियों में से एक आरोपी को आसमान निगल गया या धरती ? यह संगीन सवाल सोशल मीडिया में चर्चा का खासा विषय बना हुआ है। पुलिसिया कार्यवाही के दौरान सोशल मीडिया में पुलिस के साथ आरोपियों के खड़े होने की वायरल हुई तस्वीर यही बोलती है कि इस मामले में आरोपियों की संख्या दो रही। तो ऐसे में फिर सवाल यह उठता है कि जीआरपी ने एक व्यक्ति को ही आरोपी क्यों बनाया ? जो भी हो, फिलहाल जीआरपी चौकी की इस कथित कार्यवाही से प्रभारी उप निरीक्षक अरविंद कुमार साहू पूरी तरह से सवालों के घेरे में आ चुके हैं। उन्होंने ऐसा क्यों और किसलिए किया ? इस सनसनीखेज सवाल का जबाब शायद चौकी प्रभारी उप निरीक्षक अरविंद कुमार साहू ही बेहतर तरीके से दे सकते हैं।

खैर ! इस मामले में जो प्रेस नोट जीआरपी चौकी ने मीडिया को रिलीज की है, उसमें यह बताया गया है कि रेल पुलिस अधीक्षक जबलपुर सुनील कुमार जैन के निर्देशन में स्टेशन परिसर में 13 अप्रैल को पुलिस स्टाफ का विशेष चेकिंग अभियान लगाया गया था। चेकिंग के दौरान प्लेटफॉर्म नम्बर 1 में ड्यूटी में कार्यरत आरक्षक 304 दिनेश पटेल व आरक्षक 41 श्यामबाबू ने लगभग 17:20 बजे काला बैग लिए एक व्यक्ति को संदेह होने पर रोका और जब उसके बैग की तलाशी ली तो लगभग 5 लाख रूपये की नगदी रकम देखने को मिली। इस सूचना से जीआरपी चौकी प्रभारी को अवगत कराते हुए अनावेदक भारत तुलसीदास खूबचंदानी 45 वर्ष निवासी उलहासनगर ठाणे महाराष्ट्र को चौकी लाया गया। जहां बैग की पूरी तरह से तलाशी लिए जाने पर नगदी 5 लाख 32 हजार रुपए, तकरीबन 55 लाख रूपए का सोना व 7 हजार की चाँदी प्राप्त हुई। पूछताछ में अनावेदक पुलिस टीम द्वारा जांच के दौरान जप्त की गई नगदी व सोना-चाँदी की खरीदी या विक्रय से संदर्भित किसी भी तरह का कोई दस्तावेज पेश नहीं कर सका।

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close