मध्यप्रदेश

मजदूरों में व्याप्त भय को दूर करने नारायण ने लिखा पीएम को पत्र

कलयुग की कलम

मजदूरों में व्याप्त भय को दूर करने नारायण ने लिखा पीएम को पत्र

सतना। कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच एक बार फिर देश में लाॅकडाउन लगने जैसी संभावना को देखते हुए मजदूर वर्ग बेहद भयभीत है और वे अपना काम छोड़कर घर लौटने लगे हैं। जिसके मद्देनजर विधायक नारायण त्रिपाठी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर ‘मन की बात’ कार्यक्रम में श्रमिकों को इस संबंध में पूर्णतः आश्वस्त किए जाने की मांग रखी है। उन्होने कहा कि समय रहते मजदूरों का भय दूर करने से आने वाली बेरोजगारी समेत कई विपरीत परिस्थितियों से बचा जा सकता है। पीएम को लिखे पत्र में श्री त्रिपाठी ने बताया कि हमारे विन्ध्य क्षेत्र, बिहार एवं पूर्वी उत्तरप्रदेश के बहुतायत लोग मजदूरी के लिए दक्षिण व पश्चिमी भारत के बड़े शहरों में मजदूरी करते हैं। गत वर्ष हमने राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 7 में घर लौट रहे मजदूरों की पीड़ा और उनकी मजबूरी को बड़े करीब से देखा है। एक ओर तो उन्हें पूरी मजदूरी नहीं मिल पाई, वहीं घर वापसी में भी उन्हें तमाम तरह की तकलीफों का सामना करना पड़ा। विधायक ने पीएम से कहा कि देश के हर नागरिक को आपकी अपील पर विश्वास एवं आस्था है। इसलिए बाहर काम कर रहे मजदूरों को लाॅकडाउन के भय से मुक्त कराने के लिए ‘मन की बात’ में इस बात का उल्लेख हो जाता कि मजबूरी में यदि लाॅकडाउन लगाना भी पड़ा, तो सभी श्रमिकों को सुरक्षित तरीके से घर भेजा जाएगा और उनके द्वारा किए गए कार्य का पूरा भुगतान कराया जाएगा। इससे भय दूर होने के साथ मजदूरों के बीच मची अफरा-तफरी रूक जाएगी। मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी ने मौजूदा कोरोना काल में धार्मिक स्थलों को पूर्णतः बंद न किए जाने का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री से कहा कि धार्मिक स्थलों पर बाहरी लोगों के आवागमन पर रोक लगाई जा सकती है, किन्तु स्थानीयजनों की भावना के अनुरूप धार्मिक स्थलों में सीमित संख्या में पूजा-अर्चना करने की इजाजत दिया जाना उचित होगा।

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close