UNCATEGORIZED

शहर में पानी के लिए त्राहि-त्राहि ग्राम पंचायतों में मेहरबान नगर पालिका

कलयुग की कलम

शहर में पानी के लिए त्राहि-त्राहि ग्राम पंचायतों में मेहरबान नगर पालिका

कोरिया छत्तीसगढ़ के मनेंद्रगढ़ नगरपालिका का कारनामा वार्ड के लोग पानी के लिए होते रहे परेसान वंही नगरपालिका ग्राम पंचायत में निजी काम के लिए बिना रशीद के करता रहा पानी सप्लाई, मुख्यनगर पालिका अधिकारी से पूछे जाने पर कहा मुझे कल ही इसकी जानकारी मिली में दिखवाता हूं। ऐसा है तो दोसी के ऊपर कार्यवाही होगी।

नगरपालिका मनेन्द्रगढ़ की जल सप्लाई पिछले 5 महीने से बाधित होने की खबर को हमने प्रमुखता से प्रशित किया था, जिसके बाद मुख्यनगर पालिका अधिकारी का कहना था कि जल्द ही छति ग्रस्त पाइप को जल्द ही ठीक करा दिया जाएगा जिससे वार्डों में पानी की समस्या दूर हो जाएगी, लेकिन आज 20 दिन हो जाने के बाद भी मुख्यनगर पालिका अधिकारी द्वारा जल सप्लाई बाधित वार्डों का ना तो भ्रमण किया गया और ना ही पिछले 20 दिनों से वार्डों में पानी की सप्लाई की गई।

“दरअसल नगर पालिका से बकायदा वार्डों में पानी सप्लाई के नाम से रोज एक-दो टैंकर पानी रोजाना निकलती रही, लेकिन टैंकर नगरपालिका के वार्डों में पहुचने के बजाय ग्राम पंचायत में चल रहे निजी निर्माण कार्य मे पहुँच रहा था, और इधर वार्ड के लोग पानी के लिए तरस रहे है,

इस सम्बंध में जब हमने मुख्यनगर पालिका अधिकारी से बात की तो उनका कहना था कि मिझे कल ही इसकी जानकारी मिली है, में इसे दिखवा रहा हूं जो इसमे संबंधित अधिकारी है बंस गोपाल कुशवाहा से जानकारी मांगे है कि निकाय क्षेत्र छोड़कर ग्राम पंचायतों में बिना सक्षम स्वकृति के पानी की आपूर्ति कैसे की, 2 दिवस के अंदर जानकारी देने को कहा है, उसके बाद ही कार्यवाही करेंगे।

मुख्यनगर पालिका अधिकारी ने बताया कि बिना सक्षम अनुमति के नगरपालिका से अन्य क्षेत्र में नही हो सकता है, हमने सम्बंधित अधिकारी से जवाब मांगा है कि किसकी सक्षम अनुमति से पानी का टैंकर ग्राम पंचायत में कराया जा रहा था, यदि किसी की सक्षम अनुमति नही थी तो दोसी पर कार्यवाही होगी उनका एक महीना का वेतन काटा जएगा।

बतादें की नैंसनल हाइवे में चौड़ी करण का कार्य चल रहा है, जिस वजह से मेन पाइप लाइन को हटा दिया गया था लेकिन रोड का काम हो जाने के बाद भी पाइप लाइन का काम नही किया गया, अब गर्मी की सुरवात भी हो गई है जिससे पानी की सप्लाई चालू न होने से अब ज्यादा दिक्कत हो रही है, समय रहते इस ओर ध्यान नही दिया जएगा तो आगे चलकर और भी दिक्कत बढ़ जाएगी।

नगरपालिका अधिकारी जो भी कहे लेकिन इस बात से इनकार नही किया जा सकता कि नगरपालिका से बिना किसी सक्षम अनुमति के ग्राम पंचायतों में निजी काम के लिए पानी टैंकर का सप्लाई किया जाता रहा, और मुख्यनगर पालिका अधिकारी को इसकी जानकारी नही, अब जब मामला मीडिया से सामने आया, तो अधिकारी जांच की बात कह दोषियो पर कार्यवाही की बात कह अपना पल्ला झाड़ रहे है।

सूत्रों से मिली जानकारी से पता चला कि अभी तक 30 टैंकर पानी सप्लाई किया जा चुका है जिसका राशीद भी नही काटा गया, सबसे हैरानी की बात तो यह रही कि जितने रुपये की रशीद कटती उससे कहीं ज्यादा डीजल खर्च हो गया, जिसका बिल भी नगरपालिका से कटता रहा।

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close