UNCATEGORIZED

वगैर मॉस्क के घर से बाहर निकलने पर लगेगा जुर्मान

कलयुग की कलम

वगैर मॉस्क के घर से बाहर निकलने पर लगेगा जुर्मान

प्रशासनिक अमला खुद भी नहीं कर पाता परिपालन

मॉस्क लगाने में हर कोई करता है परहेज

ओपी तीसरे/कलयुग की कलम

कोरोना से बचने लोगों को चेहरे पर मॉस्क लगाना अनिवार्य किया गया है, लेकिन हर कोई इसका परिपालन करना अपनी शान के खिलाफ समझता है। सार्वजनिक स्थलों में मॉस्क लगाकर घर से न निकलने वाले व्यक्तियों पर 100 रुपए का जुर्माना लगाने के आदेश भी जारी हो गए, बावजूद इसके लोगों को इसका कोई भी फर्क पड़ता नज़र नहीं आ रहा है।

बात करें, तो इस आदेश का परिपालन करवाने वाला प्रशासनिक अमला मैदानी स्तर में खुद इसका उल्लंघन करता देखने को मिल रहा है। ऐसी स्थिति में भला लोगों को चेहरे में मॉस्क लगवाना कैसे संभव हो पाएगा।

प्रशासनिक अमले की आयोजित किसी भी मीटिंग पर गौर करें, तो वहां ज्यादातर अधिकारी व कर्मचारी मॉस्क विहीन दिखेंगे या फिर उनके गले मे मॉस्क सिर्फ और सिर्फ लटकता हुआ ही नजर आएगा।

जिले के मुखिया कलेक्टर अजय कटेसरिया सार्वजनिक स्थल में पब्लिक से चेहरे पर मॉस्क अनिवार्य रूप से लगाकर घर से निकलने की उम्मीद करते हैं, लेकिन शायद वह भी कलेक्ट्रेट में होने वाली विभागीय मीटिंगों व मैदानी स्तर पर इसका परिपालन नहीं कर पाते।

यही हाल पुलिस विभाग का भी है। मीटिंगों में पुलिस कप्तान मॉस्क में बैठते हैं, लेकिन उनके अगल-बगल बैठने वाले मातहत अधिकारी चेहरे पर मॉस्क लगाना उचित नहीं समझते। जो भी हो, फिलहाल इन छोटी-छोटी बारीकियों का पब्लिक के बीच मैसेज जाता है। अब तो पब्लिक भी सवाल उठाने लगी है कि क्या इनके लिए सरकार को पृथक से आदेश जारी करने होंगे ?

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close