UNCATEGORIZED

शिक्षित महिलाओं ने प्रदर्शन करते हुए प्रदेश सरकार के लिए जनता से मांगी भीख

कलयुग की कलम

शिक्षित महिलाओं ने प्रदर्शन करते हुए प्रदेश सरकार के लिए जनता से मांगी भीख

एक ओर सरकार अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर एक दिनी महिला सम्मान की औपचारिकता पूरी कर रही थी तो दूसरी ओर सभ्रांत परिवार की शिक्षित महिलायें प्रदेश सरकार के लिए भिक्षा यात्रा निकाल कर गली गली आमजनों से भीख मांग रही थीं ।

उनके हाथ नारे लिखी तख्तियां लहरा रहे थे । जिन पर देना ही है तो शिक्षा का अधिकार दो शिक्षा है जीवन का आधार बंद करो सरकार अत्याचार शिक्षा का प्रसार क्यों रोक रही सरकार भूल रही है सरकार लाखों हो जाएंगे बेरोजगार नारे भी लगाए जा रहे थे अभी तो ये अंगड़ाई है आगे बहुत लड़ाई है

कंगाल सरकार का भिखमंगा मुखिया आये दिन बाज़ार से क़र्ज़ा लेता रहता है, आमजन के खर्च के नाम पर । मग़र हक़ीक़त में उस पैसे का उपयोग होता है सत्ता बचाने बिकाऊ दोपाये जानवरों की में । निकृष्टतम आरोप के गहनों से लदे संवैधानिक अधिकार प्राप्त घिनौने चेहरों को चमकदार बनाने में । एशोआराम में । आमजन के पल्ले आता है बाबा का ठुल्लू । तभी तो सरकार की नीति और नियत को पहचान कर मातृशक्ति सरकार के लिए भीख मांगने सड़कों पर उतरी है । अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर सड़कों पर उतर कर अपने स्वाभिमान को जिंदा ही रखा है । यह भी साबित कर दिया है कि वे सरकारी भीख में मिलने वाले सम्मान को अपनी ठोकर पर रखती हैं ।

जंजीर नहीं कटती तो अपने पांव काट लो ।

लंगड़ा कर चलो मग़र आज़ादी से चलो ।।

अश्वनी बड़गैंया, अधिवक्ता स्वतंत्र पत्रकार

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close