छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ सरकार का बजट प्रदेश के युवाओ किसानों एवं महिलाओं व्यापारियों, कर्मचारियों के साथ छलावा:-भाजयूमो रायपुर जिलाध्यक्ष राजेश पाण्डेय

कलयुग की कलम

छत्तीसगढ़ सरकार का बजट प्रदेश के युवाओ किसानों एवं महिलाओं व्यापारियों, कर्मचारियों के साथ छलावा:-भाजयूमो रायपुर जिलाध्यक्ष राजेश पाण्डेय

कलयुग की कलम

रायपुर:-छत्तीसगढ़ राज्य सरकार का यह बजट प्रदेश के युवाओ किसानों एवं महिलाओं व्यापारियों और कर्मचारियों के साथ छल को प्रदर्शित करता है,यह बातें भाजयूमो रायपुर जिलाध्यक्ष राजेश पाण्डेय ने कहा कि सत्ता में आने से पहले गंगाजल की कसमें खाकर बड़े बड़े लोक लुभावने वादे किए गए थे परंतु जनता से जनघोषणा पत्र के वादों को पूरा करने की सरकार की कोई मंशा दिखाई नही देती प्रदेश के बजट में केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री आवास योजना एवं अमृत नल जल योजना सहित कई योजनाओं का नाम बदलकर कर बजट में पेश कर अपनी योजनाए बताने की पूरी कोशिश की गई है जो कि अत्यंत निन्दनीय है

किसानों को पूर्ण कर्जमाफी का वादा 2500 समर्थन मूल्य ,दो साल के बोनस का वादा किया परंतु राजीव गांधी न्याय योजना के लिए केवल 5700करोड़ का प्रावधान किसानों को 0% पर ब्याज देने की योजना एक बार फिर किसानों को कर्ज के जाल फसाने की योजना है और किसानों को उनके उपज का एकमुश्त पूरा समर्थन मूल्य देने की भी कोई घोषणा न करना किसानों के साथ अन्याय है वही प्रदेश के माताओं बहनों से गंगाजल हाथ मे लेकर कसम खाकर पूर्ण शराब बंदी का वादा करनेवाली कांग्रेस अब शराब बंदी की बजाय प्रदेश को शराब की मंडी बनाकर पूरे प्रदेश को शराब के नशे में डुबोकर शराब से ही 600करोड़ से ज्यादा का राजस्व एकत्रित करने का लक्ष्य रखा है

प्रदेश के युवाओ को इस बजट में न ही कोई रोजगार के अवसर की घोषण हुई और न ही प्रदेश के बेरोजगार युवाओं को 2500 मासिक बेरोजगारी भत्ता देने की ही कोई घोषणा हुई है क्या मा मुख्यमंत्री जी प्रदेश के बेरोजगार युवाओं की चिंता छोड़ ऐसे ही गढ़ेंगे नवा छतीसगढ़

प्रदेश की बदहाल कानून व्यवस्था युवाओ व्यापारियों माताओं बहनों के साथ लगातार बढ़ते आपराधिक घटनाओं पर अंकुश लगाने स्मार्ट पुलिसिंग और महिला सुरक्षा की दिशा में भी किसी योजना को नही परिलक्षित किया गया है वही वैश्विक माहामारी कोरोना के खिलाफ जंग में स्वास्थ्य विभाग के बजट में भी किसी भी प्रकार की बढ़ोतरी न करना अचंभित करता है न कोरोना के टीको के मुफ्त वितरण के लिए इसमें कोई प्रावधान किया गया है कुल मिलाकर यह बजट प्रदेश को प्रगति की ओर अग्रसर करने की बजाय पीछे ले जानेवाला निराशाजनक बजट है।

राजेश सिन्हा

Related Articles

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Close